Wednesday, May 18, 2022
-->
sooraj pancholi said about jiah khan murder case

जिया खान मर्डर केस में आया नया मोड़,सूरज पंचोली ने मीडिया से कही ये बात

  • Updated on 11/1/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जिया खान (jiah khan) आत्महत्या केस को लेकर हमेशा से सुर्खियों में रहने वाले बॉलीवुड एक्टर सूरज पंचोली (sooraj pancholi) ने हाल ही में एक मीडिया हाउस से बातचीत के दौरान कहा कि अब तक जितनी भी बाते की गई सब गलत है। मेरे बारे में सिर्फ गलत अफवाह फैलाई गई।

सूरज पंचोली ने कहा शुरुआत से लेकर अभी तक मीडिया में मेरे बारे में जो भी बातें लिखी गईं उसका पांच फीसदी भी सच नहीं है। उन्हें (मीडिया) केवल एक तरफ की बात पता थी। उन्होंने कभी मेरे बारे में नहीं जाना क्योंकि मैंने लोगों की सहानुभूति कभी नहीं पानी चाही।'

इस दिन रिलीज होगी सूरज पंचोली की फिल्म ‘सैटेलाइट शंकर’

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

💚🌟 #LookingAtTheBrighterSide @nikhilshenoyphoto 📸

अक्तू॰ 29, 2019 को 6:43पूर्वाह्न PDT बजे को Sooraj Pancholi (@soorajpancholi) द्वारा साझा की गई पोस्ट

मैं अब बस इतना चाहता हूं कि सबको सच के बारे में पता चले क्योंकि मै जानता हूं कि मीडिया मुझे इंसाफ नहीं दिला सकता है। इसलिए मुझे सिर्फ अब कोर्ट पर ही भरोसा है। मुझे वहीं से न्याय मिल सकता है।  इसलिए मुझे कोर्ट के फैसले का इंतजार है। अब इसमें काफी लंबा वक्त बीत चुका है।'

सूरज पंचोली और जिया खान

जिया खान आत्महत्या मामले पर सूरज पंचोली ने किया खुलासा- कैसे जेल में गुजारे थे दिन

जिया सुसाइड मामले पर सूरज ने तोड़ी थी चुप्पी
वहीं कुछ समय पहले भी जिया सुसाइड मामले पर सूरज ने चुप्पी तोड़ी थी। सूरज ने कहा था, 'अब बहुत हो गया, अगर कोई जस्टिस चाहता था, तो वो आने वाले समय में मिल जाएगा। मुझे उम्मीद थी कि उन्हें न्याय मिलेगा, जबकि मैं जानता था कि सच्चाई क्या थी। लोगों को यह समझना चाहिए कि मैंने भी अपने एक करीबी और प्यारे इंसान को खोया था।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

“Say that once more” #StareDown @munnasphotography

अक्तू॰ 24, 2019 को 7:06पूर्वाह्न PDT बजे को Sooraj Pancholi (@soorajpancholi) द्वारा साझा की गई पोस्ट

जिया खान खुदकुशी मामले में अभ‍िनेता सूरज पंचोली की अब मुश्किलें बढ़ना तय

जिया खान के मौत के मामले में जल्द से जल्द निर्णय लेने की मांग उठ रही थी। इस पर सूरज ने कहा, 'जो वो चाहते थे हम उसके बिल्कुल खिलाफ नहीं थे। लेकिन हमने पूरे धैर्य के साथ तीन साल तक चले कोर्ट के ट्रायल में सहयोग किया था। मैं चाहता हूं कि सारी चीजें कोर्ट में साफ हों। लेकिन मुझे यह समझ में नहीं आता कि मेरे केस में चीजें कोर्ट से पहले मीडिया को क्यों बताई जाती थी।'

आपको बता दें कि जिया 3 जून 2013 को अपने घर में फांसी पर लटकती पाई गई थीं। पहले जुहू पुलिस इस मामले की जांच कर रही थी उसके बाद में राबिया खान की मांग पर बॉम्बे हाइकोर्ट ने जांच सीबीआई को सौंप दी थी। 

comments

.
.
.
.
.