Thursday, Oct 28, 2021
-->
sp bsp aap opposition accuses bjp of rigging in panchayat elections sp demonstrate rkdsnt

पंचायत चुनाव में विपक्ष ने भाजपा पर धांधली का आरोप लगाया, सपा करेगी प्रदर्शन

  • Updated on 7/9/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश में क्षेत्र पंचायत प्रमुख के चुनाव में विपक्ष खासकर समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस ने सत्तारूढ़ भाजपा पर धांधली करने और लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाया है। शुक्रवार को जारी एक बयान में सपा अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने क्षेत्र पंचायत चुनाव को लोकतंत्र के इतिहास का काला अध्याय बताते हुए कहा, ‘‘भाजपा सरकार में महिलाओं का सम्मान सुरक्षित नहीं है। ब्लॉक प्रमुख चुनाव में आधी आबादी के साथ भाजपाइयों का बर्ताव घिनौना और निंदनीय है। लखीमपुर के पसगवां ब्लॉक में नामांकन के समय समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी ऋतु सिंह एवं उनकी प्रस्तावक अनीता यादव के साथ दुव्र्?यवहार किया गया और उनकी साड़ी खींची गयी, चीरहरण की यह घटना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय है।‘’  

SC ने IT Rules पर याचिकाओं को ट्रांसफर करने की केंद्र की याचिका को लंबित मामले से जोड़ा 

   सिद्धार्थनगर, बहराइच और कुशीनगर समेत कई जिलों में सपा उम्मीदवारों के साथ अराजकता और अभद्रता का आरोप लगाते हुए सपा प्रमुख ने कहा,‘‘उत्तर प्रदेश के प्रत्येक नामांकन केन्द्र में पहले से भाजपा के दर्जनों दबंग उपस्थित होकर निष्पक्ष चुनाव को खुली चुनौती दे रहे हैं।’’      उन्होंने कहा,‘’उप्र में संविधान और लोकतंत्र को कमजोर करने वाली भाजपा को जनता सबक सिखाने के लिए तैयार है। सरकारी मशीनरी और गुंडागर्दी के बलबूते जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख पदों पर जबरन कब्जा करना भाजपा को भारी पड़ेगा। उत्तर प्रदेश की जनता भाजपा को कभी माफ नहीं करेगी।‘‘     सपा प्रमुख ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को क्षेत्र पंचायत प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार की कथित धांधली के विरोध में 15 जुलाई को प्रदेश के सभी तहसील मुख्यालयों पर प्रदर्शन कर राज्यपाल के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपने का निर्देश दिया है।    

पीएम मोदी के विजन को लेकर नए कानून मंत्री रिजिजू ने रविशंकर प्रसाद से की मुलाकात

  पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने शुक्रवार को बताया कि इस कार्यक्रम में सपा के सभी कार्यकर्ता और पदाधिकारी शामिल होंगे और उनसे कोविड नियमों का पालन अवश्य करने की अपेक्षा की गई है।      वहीं, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने शुक्रवार को सत्तारूढ़ भाजपा पर जिला पंचायत और क्षेत्र पंचायत के चुनाव में धनबल और सत्ता के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए कहा कि ङ्क्षहसक घटनाओं ने सपा शासन की याद ताजा करा दी है।     बसपा प्रमुख ने अपने ट््वीट में कहा,‘’उप्र पंचायत चुनाव में भाजपा द्वारा पहले जिला पंचायत अध्यक्ष व अब ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान भी सत्ता व धनबल का घोर दुरुपयोग व ङ्क्षहसा आदि जो हो रही है, वह सपा शासन की ऐसी अनेकों यादें ताजा कराता है, इसीलिए बसपा ने इन दोनों अप्रत्यक्ष चुनावों को नहीं लडऩे का फैसला लिया।‘’      उन्होंने भाजपा के साथ ही सपा पर भी निशाना साधा।    

यूपी विस चुनाव की तैयारी - राजभर और ओवैसी मुरादाबाद में करेंगे रैली

  मायावती ने कहा कि अब उप्र विधानसभा का चुनाव निकट है तब भाजपा सरकार के विरुद्ध सपा जो जुबानी विरोध व आक्रामकता दिखा रही है, वह घोर छलावा और अविश्वसनीय है।     इस बीच, उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने शुक्रवार को एक बयान में कहा,‘‘उत्तर प्रदेश के ब्लॉक प्रमुख चुनाव में जिस तरह से गुंडई, दबंगई, सरकारी मशीनरी का खुलेआम दुरुपयोग हुआ, सत्ता प्रायोजित गुंडों ने जंगलराज स्थापित कर लोकतंत्र का चीरहरण कर महिलाओं के मान-सम्मान के साथ जो खिलवाड़ किया और जिस तरह विपक्षी उम्मीदवारों को नामांकन करने से रोका गया, उनके पर्चे फाड़े गए, उनका अपहरण किया गया, इससे यह साबित हो गया कि भारतीय जनता पार्टी और उसकी सरकार का लोकतंत्र में विश्वास नहीं है।‘‘

गुजरात दौरे से पहले अमित शाह ने राष्ट्रपति से की मुलाकात

    लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए लल्?लू ने कहा,‘‘लखीमपुर में जिस तरह ब्लॉक प्रमुख पद की महिला प्रत्याशी और महिला प्रस्तावक के साथ निर्वाचन कार्यालय के बाहर पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में भाजपाइयों ने चीरहरण का दुस्साहस किया, वह यह बताता है कि उत्तर प्रदेश में सरकार धृतराष्ट्र की तरह सब कुछ देखती रही और गुंडों को खुलेआम संरक्षण देने का काम किया।‘’      उन्होंने कहा कि महिलाओं का अपमान करने वाली भाजपा सरकार को इस घटना के लिए तत्काल माफी मांगनी चाहिए। 

भागवत के ‘डीएनए’ बयान पर दिग्विजय ने धर्मांतरण विरोधी कानून की जरुरत पर उठाए सवाल

 

 

comments

.
.
.
.
.