Thursday, May 23, 2019

सपा-बसपा लोकसभा चुनाव में संयुक्त रैलियों के जरिए #BJP पर करेगी वार

  • Updated on 3/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने लोकसभा चुनावों में गठबंधन के बाद वोटरों को यह संदेश देने के लिए जमीनी स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी है कि दोनों दल अब एक हैं और कार्यकर्ता दोनों दलों के प्रत्याशियों को जिताने के लिए कमर कस लें। सपा और बसपा गठबंधन ने अपने परंपरागत वोटों को एकजुट रखने के लिये तैयारियों पर अमल शुरू कर दिया है जिसके तहत जल्द ही पार्टी नेताओं को प्रत्येक लोकसभा सीट की अलग अलग जिम्मेदारी सौंप दी जाएगी।

राफेल मामला: सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल से किए कड़े सवाल, सुनवाई जारी

सपा के प्रदेश प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने बताया‘’प्रदेश में लोकसभा चुनावों में बूथ स्तर पर प्रबंधन की तैयारी आरंभ हो गई है। दोनों दल तालमेल करेंगे ताकि कार्यकर्ताओं के बीच यह संदेश जाए कि दोनों दल एक हैं। जिस लोकसभा सीट पर सपा प्रत्याशी चुनाव लड़ रहा है वहां विधानसभा स्तर पर चुनाव प्रबंधन का जिम्मा स्थानीय बसपा नेताओं के हाथ में होगा और जहां बसपा प्रत्याशी चुनाव लड़ रहा है, वहां की पूरी जिम्मेदारी सपा नेताओं पर होगी ताकि सपा और बसपा दोनों दलों के कार्यकर्ताओं के बीच यह संदेश जाए कि दोनों दल एक हैं।'

कांग्रेस ने किया यूपी, महाराष्ट्र के उम्मीदवारों का ऐलान, जानिए कौन कहां से लड़ेगा?

गठबंधन के दोनो नेताओं अखिलेश यादव और मायावती की संयुक्त जनसभायें इस माह के अंतिम सप्ताह से शुरू होने की उम्मीद है। दोनों दलों की प्रचार सामग्री, झंडा, बैनर और पोस्टर में भी दोनों नेताओं की फोटो और चुनाव चिन्ह (साईकिल और हाथी) साथ साथ रखे जा रहे हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं को भी निर्देश दिए गए हैं कि वह प्रचार सामग्री में दोनों नेताओं की फोटो और चुनाव चिन्ह रखें। 

AAP और BJP नेताओं के बीच सोशल मीडिया पर दिल्ली को लेकर छिड़ी जंग

बसपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया ‘‘पार्टी सुप्रीमो मायावती ने निर्देश दिए हैं कि जिन लोकसभा सीटों पर सपा के उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं वहां हर गांव और हर बूथ में यह संदेश दिया जाये कि पार्टी कार्यकर्ताओं को सपा के चुनाव चिन्ह साईकिल के लिये प्रचार करना है।‘‘

नई पेंशन स्कीम के खिलाफ केंद्र सरकार के कर्मियों ने किया प्रदर्शन

सपा बसपा दोनों दलों में गठबंधन के बाद अब उनके झंडे ने भी साझा रूप ले लिया है। इस साझा झंडे को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि आधे हिस्से में मायावती और बसपा का चुनाव निशान हाथी नजर आए और आधे हिस्?से में अखिलेश यादव और सपा का चुनाव निशान साइकल दिखाई दे। 

दोनों ही दलों ने अभी चुनाव प्रचार शुरू नहीं किया है लेकिन बृहस्पतिवार की रात को अखिलेश यादव की अचानक मायावती से मुलाकात के बाद दोनों दलों में सरगर्मियां बढ़ गई हैं। सपा अपने 11 उम्मीदवारों की सूची जारी कर चुकी है। शेष सीटों के लिए प्रत्याशियों की सूची जल्द आने की उम्मीद है। 

राफेल मामले में फजीहत के बाद मोदी सरकार ने SC में दायर किया हलफनामा

सपा प्रवक्ता साजन ने कहा, 'गठबंधन के दोनों नेताओं की संयुक्त रैलियां मार्च के अंतिम सप्ताह से शुरू हो जायेंगी और प्रयास रहेगा कि प्रदेश की सभी 80 सीटों पर दोनो नेताओं की कम से कम एक संयुक्त जनसभा अवश्य आयोजित हो। दोनों पार्टियों के जिला स्तर पर कार्यालय भी दोनों दलों के नेता कार्यकर्ता साझा करेंगे।'

प्रियंका गांधी ने अस्पताल में भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर से की मुलाकात, सियासत गर्म

बसपा नेता ने कहा, 'कार्यकर्ताओं तक बहन जी का संदेश पहुंचा दिया गया है कि जहां सपा का प्रत्याशी चुनाव लड़ रहा है वहां उसे पार्टी का पूरा वोट ट्रांसफर कराया जाये और यही उम्मीद हम सपा नेताओं से भी करते है कि वह अपने वोट बसपा प्रत्याशियों को ट्रांसफर करायें।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.