Wednesday, Oct 16, 2019
spa-centre-delhi-news-sexual-activity

स्पा सेंटरों में नहीं चल सकेंगी सेक्सुअल गतिविधियां

  • Updated on 9/18/2019

नई दिल्ली, 17 सितम्बर (नवोदय टाइम्स): हाल ही में दिल्ली महिला आयोग ने राजधानी के विभिन्न इलाकों में दर्जनों स्पा सेंटरों का निरीक्षण किया और स्पा सेंटर के नाम पर चलाए जा रहे सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया था। इस मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा 4 एफआईआर भी दर्ज की गईं और कई लड़कियों को बचाया भी गया।

इस मामले में 9 सितंबर को एमसीडी व दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को तलब भी किया गया था और उन्हें स्पा में सेक्स रैकेट चलाए जाने पर निर्देशित कर बंद करने को कहा गया था। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि तीनों नगर निगम उचित कदम उठाएंगे और अपने लाइसेंसिंग प्रक्रिया में बदलाव कर यह सुनिश्चित करेंगे कि स्पा और मसाज सेंटर में सेक्स रैकेट न चलें। इसके बाद अब आयोग ने तीनों निगमायुक्तों को भी समन जारी कर दिया है। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपना जन्मदिन गुजरात में बनाया

आयोग ने बताया कि निर्देशित किया गया है कि स्पा में किसी भी तरह कि सेक्सुअल एक्टिविटी पर रोक लगाई जाए। वर्तमान में नगर निगम द्वारा बिना किसी ठोस जांच के ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से स्पा चलाने के लिए लाइसेंस दिया जा रहा है। यह निर्णय लिया गया कि अब उचित मानवीय जांच के बाद ही लाइसेंस जारी किया जाएगा। जिसे पुलिस आयुक्त द्वारा एनओसी देने के बाद ही दिया जाएगा, जैसा कि चेन्नई में तमिलनाडु सरकार द्वारा किया जा रहा है।  

किसान के जीवन पर आधारित फिल्म ‘मोतीबाग’ आस्कर के लिये नामित

इसके अलावा, क्रॉस-जेंडर मसाज के साथ-साथ अन्दर से बंद वाले कमरों में मालिश पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाएगा और इसे लाइसेंस देने के लिए प्राथमिक शर्त के रूप में शामिल किया जाएगा। स्पा का समय केवल सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक रखा जाएगा और स्पा में आने वाले सभी ग्राहकों के आईडी प्रूफ लिए जाएंगे। साथ ही स्पा के मालिकों के आधार नंबर / पैन नंबर कि जानकारी दर्ज की जाए ताकि एक ही व्यक्ति जिस पर एक बार गलत काम करने के लिए कार्रवाई की गयी हो, उसको अन्य नाम या अन्य पते पर फिर से स्पा खोलने की अनुमति न मिल सके।  

हीरो साइकिल्स ने यामाहा मोटर के साथ मिलकर लॉन्च की ई-साइकिल ‘लेक्ट्रो ईएचऐक्स20’

सेंटर में कार्यरत कर्मचारियों का पुलिस सत्यापन व सीसीटीवी कैमरा लगाया जाए व पुलिस और एमसीडी साप्ताहिक निरीक्षण करे। आयोग ने बताया कि बैठक में उठाए गए बिन्दुओं पर एमसीडी द्वारा कि गयी कार्रवाई के बारे में जानकारी मांगने के लिए तीनों नगर निगम के आयुक्तों को बुलाया गया है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.