Friday, Jan 18, 2019

लो आ गई लोहड़ी वे, जानिए शुभ मुहूर्त और पर्व से जुड़ी कथा

  • Updated on 1/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नए साल का आगाज हो गया है और इसी के साथ कई त्यौहार  भी कतार में शामिल है, जिसकी धूम देश में मची हुई है। इन्हीं त्यौहारों में सबसे पहले आता है लोहड़ी। यह उत्तर भारत में मनाए जाना वाला प्रमुख पर्व है, खासतौर से पंजाब, हरियाण, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड जैसे राज्यों में इसे बड़े जोश और उल्लास के साथ मनाया जाता है।

खास है त्यौहार
पंजाबियों के लिए ये त्यौहार ज्यादा खास होता है। खासतौर पर नववधू और बच्चे की पहली लोहड़ी बहुत विशेष होती है। इस पर्व में शाम के समय खुली जगह पर लोहड़ी जलाई जाती है।

श्रद्धालुओं के लिए मां वैष्णो देवी की सौगात, इस दिन खुलेंगी प्राचीन गुफा

इस पवित्र आग में मूंगफली, गजक, तिल और मक्का डालते हुए इसकी परिक्रमा की जाती है। लोग आग के चारों ओर चक्कर काटते हुए नाचते-गाते हैं। यह आग दुल्ला भट्टी की याद भी दिलाती है, जिन्होंने जंगल में आग जलाकर सुंदरी और मुंदरी नाम के दो गरीब लड़कियों की शादी करवाई थी।

Related imageमौसम से भी है लोहड़ी का कनेक्शन
लोहड़ी को ठंड के जाने और वसंत ऋतु के आगमन के तौर पर भी देखा जाता है। लोहड़ी की आग में रवि की फसलों को अर्पित किया जाता है।

Related image
इसी समय पंजाब में फसलों की कटाई शुरू होती है। सभी देवी-देवताओं को नई फसल का भोग लगाकर पूरे साल के लिए भगवान से धन और संपन्नता की प्रार्थना की जाती है।

 स्वर्ण मंदिर में फोटोग्राफी करने पर लगा प्रतिबंध

ये है कथा
लोक कथाओं के मुताबिक, ऐसा कहा जाता है कि पुराने समय में सुंदरी और मुंदरी नाम की दो अनाथ लड़कियां थी। उनके चाचा ने राज्य के शक्तिशाली सूबेदार का कृपापात्र बनने के लिए उन दोनों मासूम बच्चियों को उसको सौंप दिया था।

Related imageउस राज्य में एक डाकू भी था,जिसका नाम दुल्ला भट्टी था। वो अमीरों व घूसखोरों से धन लूटकर गरीबों में बांटकर उनकी मदद करता था।

Image result for lohriजब उसको सुंदरी और मुंदरी के बारे में पता लगा तो उसने दोनों लड़कियों को मुक्त करा और दो अच्छे लड़के देखकर उन दोनों का विवाह कराया। इतना ही नहीं खुद पिता बनकर उसने उनका कन्यादान भी किया। उसी समय से दुल्ला भट्टी की याद में यह त्यौहार मनाया  जाने लगा।

सीआईआई ने सरकार से की व्यक्तिगत आयकर छूट सीमा बढ़ाने की मांग

शुभ मुहूर्त
पंचांग के अनुसार  14 जनवरी की शाम 7 बजकर 50 मिनट पर सूर्य मकर राशि में प्रवेश कर जाएंगे इसलिए 13 जनवरी को लोहड़ी मनाई जाएगी। वहीं लोहड़ी पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 41 मिनट से 7 बजकर4 मिनट तक होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.