Sunday, Nov 27, 2022
-->
spg security removed from former prime minister manmohan singh

पूर्व PM मनमोहन सिंह से हटाई गई SPG सुरक्षा, सिर्फ चार लोगों को ही मिलेगी यह सुविधा

  • Updated on 8/26/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गृह मंत्रालय ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से SPG सुरक्षा हटा दी है। मनमोहन सिंह को अब सिर्फ केन्द्रीय सुरक्षा बल की जेड प्लस सरक्षा मिलेगी। सरकार की तरफ से बताया गया कि यह एक सामान्य सी प्रक्रिया है जो समय समय पर होती रहती है।  इससे पहले केंद्र सरकार ने सांसदों की भी सुरक्षा व्यवस्था को घटाने का फैसला लिया था।

G-7 ग्रुप का सदस्य नहीं होने के बाद भी भारत को भेजा गया स्पेशल इनविटेशन, जानिए क्यों ?

सिर्फ इन चार लोगों को मिलेगी SPG सुरक्षा
आपको बता दें कि SPG सुरक्षा कवच देश के बड़े नेताओं को दी जाती है। मनमोहन सिंह से यह सुरक्षा हटने के बाद अब देश में सिर्फ चार लोगों के पास ही SPG कमांडो का कवर होगा। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी शामिल हैं। मनमोहन सिंह से पहले पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और वीपी सिंह से भी एसपीजी सुरक्षा हटाई गई थी। इससे पहले पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की बेटियों ने भी सुरक्षा लेने से मना कर दिया था।

INX Media Case: SC में अभी तक लिस्ट नहीं हुई चिदंबरम की याचिका, आज होनी है सुनवाई

1985 में शुरू हुई थी यह सुरक्षा
जानकारी के अनुसार जब इस मामले में मनमोहन सिंह से बात की गई तो उन्होंने सरकार के इस फैसले पर सहमति जताई। बता दें कि इंदिरा गांधी के मौत के बाद 1985 में एसपीजी सुरक्षा शुरू की गई थी और राजीव गांधी की हत्या के बाद एसपीजी के नियमों में बदलाव किया गया था। इसके बाद यह नियम लागू किया गया कि पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार के सदस्यों को 10 साल तक SPG की सुरक्षा प्रदान की जाएगी। बाद में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने इस एक्ट में बदलाव करके इसकी सीमा एक साल कर दी थी।

G-7 सम्मेलन में मोदी- ट्रंप मुलाकात पर सबकी नजर, कश्मीर मुद्दे पर क्या होगा भारत का जवाब!

अपने बयान में गृह मंत्रालय ने कहा कि यह एक रिव्यू सिस्टम है जिसके आधार पर यह तय किया जाता है कि किसी नेता की सुरक्षा बढ़ाना है या फिर घटना है। मंत्रालय ने कहा कि यह एक सामान्य प्रक्रिया है। इस समय SPG में ITBP, CRPF और CISF के लगभग 3000 से अधिक सैनिक शामिल है। केंद्र सरकार ने इस फैसले को लेने से तीन महीने पहले ही आदेश जारी कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.