पेट की समस्या लगातार कर रही है परेशान तो तनाव भी हो सकती है वजह

  • Updated on 11/24/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। तनाव की स्थिति किसी को भी तोड़ सकती है। तनाव ना केवल मानसिक बल्कि शारीरिक हानी भी करता है। तनाव की वजह से मानसिक कमजोरी, नींद ना आना और सुस्ती जैसी कितनी ही अगल तकलीफों से दो चतार होना पड़ता है। लेकिन शोध बातते हैं कि अगर आप लंबे समय से तनाव से जूझ रहे हैं तो आपकी पाचन शक्ति पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। लंबे समय तक तनाव में रहने की वजह से कई बार पेट पर भी इसका पड़ता है। 

पिंपल जिनके हैं कई प्रकार और अलग इलाज

  • पेट की समस्या की बात करें तो दिन में दो बार पेट साफ होने के बाद भी पेट साफ नहीं लगता है। लगातार पेट में हल्का दर्द बना रहता है। अगर ये सब अच्छे खानपान के बाद भी हो रहा है तो समझ लें कि ये समस्या आपको तनाव की वजह से हो रही है। 
  • तनाव की वजह से आंतो की काम करने की गति कम हो जाती है। इस वजह से खाना ठीक तरह से पच नही पाता है। तनाव के समय में शरीर में कई तरह के हार्मोन स्त्रावित होते हैं जिसका सीधा असर पेट पर पड़ता है। ये गैस और सूजन की समस्या को पेट में बढ़ाते हैं। 

दूध पीने से लीवर और किडनी को हो सकता है नुकसान! हुआ ये खुलासा

  • कहा जाता है कि पेट और दिमाग के बीच सीधा संबंध है इसलिए दिमाग में जो भी चलेगा इसका सीधा असर पेट पर होगा इसलिए अगर आप तनाव के चलते कई तरह की गलत और निगेटिव चीजें सोच रहे हैं तो समझ लें कि पाचन पर भी इसका उल्टा असर पड़ेगा। 
  • तनाव की वजह से शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों को समझ लें। इसके चलते ब्लोटिंग होना यानी ऐसे में पेट में गैस या पानी भरने लगता है जिससे पेट फूलता है। साथ ही आपको भारीपन महसूस होता है। 
  • कई बार कब्ज की समस्या हो जाती है जिसमें दिन में दो बार पेट साफ कपने के बाद भी पेट साफ नहीं लगता। 

फ्रिज में रखी इन चीजों को खाने से आपका स्वास्थ हो सकता है खराब

  • एसिड रिफलक्स की समस्या भी सामने आती है। इसमें आंतों में मौजूद एसिड तेजी से बढ़ता है जो सीने में जलन पैदा करता है। 
  • पेट की समस्या लगातार बने रहने से भूख कम हो जाती है जिससे वजन कम हो जाता है और कमजोरी आ जाती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.