Friday, Dec 09, 2022
-->
stopping-citizens-expressing-opinion-against-law-violation-freedom-of-expression-sonia-rahul

नागरिकों को कानून के खिलाफ राय रखने से रोकना अभिव्यक्ति की आजादी का हनन: सोनिया-राहुल

  • Updated on 8/30/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने फरवरी 2020 के दिल्ली दंगे को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय में दाखिल अर्जी का विरोध करते हुए कहा कि नागरिकों को किसी विधेयक या संसद द्वारा पारित किसी कानून के खिलाफ विचार व्यक्त करने से रोकना अभिव्यक्ति की स्वतंता और लोकतांत्रिक सिद्धांतों के खिलाफ है। अदालत में दाखिल अर्जी में अनुरोध किया गया है कि कथित तौर पर नफरती भाषण देने के मामले में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया जाए।    

'सेंसेक्स क्षेत्रीय दलों का' का विमोचन, शत्रुघ्न सिन्हा बोले- तलवारवाद से बड़ा खतरा

   सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने दो अलग-अलग हलफनामा में कहा कि उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश देने के लिए अदालत में कोई मामला नहीं बनता है और इस मामले की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठित करने की कोई जरूरत नहीं है। हलफनामा में कहा गया कि सोनिया गांधी व राहुल गांधी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश देने का मामला नहीं बनता और न ही अदालत द्वारा हस्तक्षेप की आवश्यकता है।

 

उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायालय वर्ष 2020 में उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों से जुड़ी कई याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। अदालत ने 13 जुलाई को काई संशोधन याचिकाओं को स्वीकार किया था जिसमें सोनिया गांधी और राहुल गांधी सहित राजनीतिक नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने और उनके खिलाफ जांच कराने का आग्रह किया गया था। याचिका में इन नेताओं पर नफरती भाषण देने का आरोप लगाया गया है जिसकी वजह से कथित सांप्रदायिक तनाव पैदा हुआ।   

धर्म संसद मामला: कोर्ट ने भड़काऊ भाषण के आरोपी जितेंद्र त्यागी को समर्पण करने का दिया निर्देश  

 जज सिद्धार्थ मृदुल और जज अमित शर्मा की पीठ ने सोमवार को इस मामले को सुनवाई के लिए 27 सितंबर को सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया। प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश देने का अनुरोध करने वाली याचिकाओं के जवाब में दाखिल हलफनामे में सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने कहा कि नागरिकों को जनहित में विधेयक और संसद द्वारा पारित कानून के खिलाफ राय बनाने, उसे व्यक्त करने से रोकना ताॢकक पाबंदी नहीं है और यह हमारे लोकतांत्रिक सिद्धांतों का उल्लंघन है, जिसपर यह स्थापित की गई है। 

अधिवक्ता तरन्नुम चीमा के जरिये दाखिल हलफनामें में कहा गया, ‘‘नागरिक को किसी विधेयक या सरकार द्वारा पारित कानून के खिलाफ प्रमाणिक राय व्यक्त करने से रोकना, सार्वजनिक मंच पर रखना, बहस करना, सुधार या बदलाव के लिए सार्वजनिक राय बनाने से रोकना हमारे अभिव्यक्ति की आजादी का उल्लंघन है।’’   इसमें कहा गया, ‘‘ प्रतवादी (सोनिया) विपक्ष की अहम नेता है जिसके नाते देश के नागरिकों के प्रति उनका कर्तव्य है कि वह सरकार द्वारा पेश विधेयक की आलोचना करे, जो नागरिकों के अधिकारों के लिए हानिकारक है।’’    

गुजरात में ‘आप’ का चुनाव अभियान भाजपा के खिलाफ जन आंदोलन में तब्दील हो गया है : केजरीवाल

comments

.
.
.
.
.