Wednesday, May 12, 2021
-->
strict comment on performance sc said public place cannot be held hostage for long albsnt

प्रदर्शन पर सख्त टिप्पणी! SC ने कहा- सार्वजनिक स्थल को लंबे समय तक नहीं बनाया जा सकता बंधक

  • Updated on 2/13/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने एक अहम फैसला में कहा है कि सार्वजनिक स्थल को लंबे समय तक घेर कर बैठा जा नहीं सकता। यह कहीं से स्वीकार्य नहीं होगा। दरअसल सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश इसलिये भी महत्वपूर्ण है कि एक पुनर्विचार याचिका दाखिल करके गत साल के शाहीन बाग को लेकर दिये गए फैसले को पलटने की मांग की गई थी। जिसे कोर्ट ने ठुकरा दिया।

पेट्रोल/डीजल के भाव आसमान पर, विपक्ष ने उठाए मोदी सरकार पर सवाल

बता दें कि सीएए के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन शुरु हुए थे। इसी कड़ी में दिल्ली के शाहीन बाग में भी महिलाओं ने प्रदर्शन शुरु किया था। यह प्रदर्शन लगभग 100 दिनों तक चला। बाद में कोरोना के बढ़ते केस के चलते 24 मार्च को आनन-फानन में इसे खत्म किया गया। जिसको लेकर 12 सामाजिक कार्यकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी। जिसमें शांतपूर्वक प्रदर्शन करने को जायज ठहराने की मांग की थी। 

नकवी बोले- अनेकता में एकता की ताकत को मजबूत करते हैं मुशायरे

हालांकि इससे पहले गत साल अक्टूबर 2020 में ही अपने एक फैसला में कहा कि प्रदर्शन करना सबका अधिकार होता है। लेकिन इसके साथ ही संवैधानिक अधिकार भी जुड़े होेते है। लेकिन प्रदर्शन कभी-भी लंबे समय तक किसी सार्वजनिक स्थल पर नहीं चलाया जा सकता। इसके बदले चिन्हित स्थलों पर ही आयोजन किया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने कहा किसी दूसरे के अधिकारों का हनन करने का लाइसेंस कभी-भी नहीं दिया जा सकता। जज जस्टिस एसके कौल, जस्टिस अनिरुद्ध बोस और जस्टिस कृष्ण मुरानी की बेंच ने यह  पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई की।

ये भी पढ़ें:

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.