Friday, Dec 04, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 3

Last Updated: Thu Dec 03 2020 09:52 PM

corona virus

Total Cases

9,564,565

Recovered

9,008,247

Deaths

139,102

  • INDIA9,564,565
  • MAHARASTRA1,837,358
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA887,667
  • TAMIL NADU784,747
  • KERALA614,674
  • NEW DELHI582,058
  • UTTAR PRADESH549,228
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA320,017
  • TELANGANA271,492
  • RAJASTHAN268,063
  • HARYANA237,604
  • CHHATTISGARH237,322
  • BIHAR236,778
  • ASSAM212,776
  • GUJARAT209,780
  • MADHYA PRADESH206,128
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB153,308
  • JAMMU & KASHMIR110,224
  • JHARKHAND109,151
  • UTTARAKHAND75,784
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH41,860
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,723
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,810
  • NAGALAND11,186
  • LADAKH8,415
  • SIKKIM4,990
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,723
  • MIZORAM3,881
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,333
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
stuck in lockdown barat returned 56 days later from w. bengal to himachal musrnt

Lockdown में फंसी बारात, 56 दिन बाद प. बंगाल से लौटी हिमाचल प्रदेश

  • Updated on 5/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस को काबू में करने के लिए देशभर में लागू किए गए लॉकडाउन के कारण पश्चिम बंगाल में फंसी बारात 56 दिन के बाद हिमाचल प्रदेश लौटी। दुल्हे सुनील कुमार (30) ने बताया कि बारात में शामिल होने के लिए 17 लोग पंजाब के रूपनगर जिले के नंगल डैम रेलवे स्टेशन से कोलकाता जाने वाली गुरुमुखी सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रेन में 21 मार्च को सवार हुए थे। जब वे अगले दिन 22 मार्च को कोलकाता पहुंचे तो देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर लोग ‘जनता कर्फ्यू’ का पालन कर रहे थे।

Lockdown4: 2 घंटे तक तैरकर काम पर जाने वाले शख्स की दास्तां सुनकर नम हो जाएंगी आपकी आंखें

कुमार और संयोगिता का विवाह 25 मार्च को पुरुलिया जिले के काशीपुर गांव में निर्धारित समय पर सम्पन्न हुआ। उसी दिन देशभर में लागू किए गए लॉकडाउन का पहला चरण शुरू हुआ। दुल्हन के साथ बारात को 26 मार्च को लौटना था और उन्होंने टिकट बुक करा रखे थे, लेकिन लॉकडाउन के कारण उन्हें 50 से अधिक दिन तक एक धर्मशाला में रुकना पड़ा। कुमार ने बताया कि उसके ससुराल वालों ने काशीपुर की धर्मशाला में उनके रहने का प्रबंध किया और हर संभव मदद मुहैया कराई।

Lockdown Effect: साइकिल से ही दुल्हनिया से ब्याह करने कल्कू पहुंचा उसके गांव

पेशे से इलेक्ट्रिशियन कुमार ने कहा, ‘हमने पश्चिम बंगाल हेल्पलाइन नंबरों पर फोन किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इसके बाद हमने हिमाचल प्रदेश के मंत्री वीरेंद्र कंवर से संपर्क किया जिन्होंने हमारे लिए राशन का प्रबंध किया।’ बारात को अंतत: राज्य सरकार से ई-पास मिला जिसके बाद वह 14 मई को मालदा से हिमाचल प्रदेश जाने वाली बस में सवार हुई।      बस सोलन जिले से मालदा के कुछ लोगों को लेकर आई थी। बारात 55 घंटे में 1,850 किलोमीटर की दूरी तय कर हिमाचल प्रदेश पहुंची।

कुमार ने ऊना जिले के एक होटल में पृथक-वास केंद्र से फोन पर कहा, ‘ऐसा लगता है कि हम स्वर्ग में वापस आ गए हैं।’  दुल्हन समेत बारात को उसके गांव से पांच किलोमीटर दूर एक होटल के हॉल में पृथक वास में रखा गया है। कुमार ने कहा कि इस बारात में शामिल लोगों का कहना है कि वे कभी इस शादी को नहीं भुला पाएंगे। उसने कहा, ‘कोरोना वायरस संबंधी जांच के लिए हमारे नमूने लिए जाएंगे और हमें 14 दिन के पृथक-वास के बाद घर जाने की अनुमति मिल जाएगी।’

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.