Wednesday, Oct 20, 2021
-->
styendar-jain-slams-on-modi-govt-over-not-a-single-death-due-to-lack-of-oxygen-kmbsnt

'Oxygen की कमी से मौत नहीं' बयान पर सत्येंद्र जैन का वार- केंद्र जल्द ही कहेगा COVID-19 नहीं था

  • Updated on 7/21/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र सरकार की मंत्री स्वास्थ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण पवार के 'ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं' बयान पर अब विपक्ष बीजेपी को जमकर घेर रहा है। इसी क्रम में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी बीजेपी  पर निशाना साधा है। उन्होंने बताया कि दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी के कारण दिल्ली समेत देशभर में कई मौतें हुईं। 

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली और देश के कई जगहों पर ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुईं हैं।ऑक्सीजन की कमी से जो मौतें हुई हैं उन्हें 5 लाख मुआवजा देने के लिए हमने कमेटी बनाई थी जिसे उपराज्यपाल ने भंग कर दिया। 

जैन ने केंद्र की  बीजेपी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि वे जल्द ही कहेंगे कि कोई COVID-19 नहीं था। अगर ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं होती, तो अस्पताल कमी के लिए हाईकोर्ट क्यों जा रहे थे? यह पूरी तरह से झूठ है।

तीसरी लहर की आशंका के चलते मौलानाओं ने की घर पर ईद मनाने की अपील

5 लाख रुपये तक का मुआवजा देने के लिए केजरीवाल सरकार ने गठित की थी कमेटी
दरअसल दिल्ली में अप्रैल के महीने में जहां संक्रमण दर अपने चरम पर थी वहीं राजधानी ऑक्सीजन की किल्लत का सामना भी कर रही थी। इस दौरान कई लोग अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के कारण मारे गए। तब दिल्ली सरकार ने ऐसे लोग जो ऑक्सीजन की कमी के कारण मारे गए उनके परिवारों को अधिकतम 5 लाख रुपये तक का मुआवजा देने का निर्णय लिया था। इसके लिए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग में 6 सदस्य कमेटी गठित की गई थी। अब दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री जैन का कहना है कि उपराज्यपाल अनिल बैजन ने इस कमेटी को भंग कर दिया था। 

कोरोना नियमों का पालन करते हुए जामा मस्जिद में अता की गई ईद की नमाज

स्वास्थ्य राज्यमंत्री ने दिया था ये बयान
जानकारी के लिए आपको बता दें कि स्वास्थ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण पवार ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी भी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश ऑक्सीजन के अभाव में किसी की मौत की खबर नहीं मिली है। उन्होंने बताया कि पहली लहर के दौरान इस जीवन रक्षक गैस की मांग 3095 मीट्रिक टन थी। जो दूसरी लहर में बढ़कर 9000 मीट्रिक टन हो गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.