Friday, Feb 26, 2021
-->
subsidy on food in parliament canteen ends prices will increase rkdsnt

संसद कैंटीन में भोजन पर दी जाने वाली सब्सिडी खत्म, बढ़ेंगी कीमतें

  • Updated on 1/19/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने मंगलवार को बताया कि संसद की कैंटीन में सांसदों, अन्य को भोजन पर दी जाने वाली सब्सिडी बंद कर दी गई है। बिरला ने इससे जुड़े वित्तीय पहलुओं के बारे में कोई जानकारी नहीं दी । हालांकि सूत्रों ने बताया कि सब्सिडी समाप्त किये जाने से लोकसभा सचिवालय को सालाना 8 करोड़ रूपये की बचत हो सकेगी।

खास बात यह है कि सरकारी नौकरियों में पेंशन खत्म है, लेकिन नेताओं की पेंशन जारी है। इसको लेकर भी सवाल सोशल मीडिया पर उठते रहे हैं। इतना ही नहीं जब संसद चलती ही बहुत कम है और जब चलती है तो सांसदों की संख्या कम रहती है, ऐसे में संसद के औचित्य पर भी सवाल उठते रहे हैं। 

AAP MLA सोमनाथ भारती ने जेल से रिहा होने के बाद योगी सरकार पर निकाली भड़ास

लोकसभा अध्यक्ष ने बजट सत्र की तैयारियों के बारे में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा कि उत्तर रेलवे के बजाय अब आईटीडीसी संसद की कैंटीनों का संचालन करेगा। उन्होंने कहा कि संसद सत्र शुरू होने से पहले सभी सांसदों से कोविड-19 जांच कराने का अनुरोध किया जाएगा। बिरला ने कहा कि सांसदों के आवास के निकट भी उनके आरटी-पीसीआर कोविड-19 परीक्षण किए जाने के प्रबंध किए गए हैं। 

संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के छोटे भाई की लाश यूपी के सहारनपुर में मिली

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र, राज्यों द्वारा निर्धारित की गई टीकाकरण अभियान नीति सांसदों पर भी लागू होगी। उन्होंने कहा कि संसद परिसर में 27-28 जनवरी को आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी, सांसदों के परिवार, कर्मचारियों की आरटी-पीसीआर जांच के भी प्रबंध किए गए हैं। 

AAP नेता संजय सिंह को मिली जिंदा जलाकर मारने की धमकी, शिकायत दर्ज

बिरला ने कहा कि 29 जनवरी से शुरू होने वाले संसद सत्र के दौरान राज्यसभा की कार्यवाही सुबह नौ बजे से दोपहर दो बजे तक होगी और लोकसभा की कार्यवाही शाम चार से रात आठ बजे तक होगी। उन्होंने कहा कि संसद सत्र के दौरान पूर्व निर्धारित एक घंटे के प्रश्नकाल की अनुमति रहेगी।  

अर्णब के कथित चैट को लेकर महाराष्ट्र की सियासत गर्म, देशमुख का मोदी सरकार पर निशाना 

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

 


 

comments

.
.
.
.
.