Friday, Sep 30, 2022
-->
suicide attack on army camp in rajouri, two terrorists killed

राजौरी में सेना के शिविर पर आत्मघाती हमला, दो आतंकवादी ढेर

  • Updated on 8/11/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू- कश्मीर के राजौरी जिले में बृहस्पतिवार को तड़के दो आतंकवादियों ने सेना के एक शिविर पर ‘फिदायीन’ हमला किया जिसमें तीन जवान मारे गए। चार घंटे तक चली गोलीबारी के बाद दोनों आतंकवादियों को मार दिया गया।

अधिकारियों और प्रत्यक्षर्दिशयों ने बताया कि यहां से 185 किलोमीटर दूर पारगल स्थित सैन्य शिविर के बाहरी घेरे से अंदर आने की कोशिश कर रहे आतंकवादियों ने देर रात करीब दो बजे पहली बार गोलीबारी की। स्वतंत्रता दिवस के चार दिन पहले किया गया यह हमला करीब तीन साल के अंतराल के बाद केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में ‘फिदायीन’ (आत्मघाती हमलावरों) की वापसी का संकेत है।

आखिरी आत्मघाती हमला 14 फरवरी 2019 को दक्षिण कश्मीर में पुलवामा जिले के लेथपोरा में हुआ था जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे। पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया कि बृहस्पतिवार को हमला करने वाले दोनों ’फिदायीन’ संभवत: आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद के थे। सिंह के अनुसार, दोनों ने शिविर में घुसने का प्रयास किया लेकिन मारे गए।      उन्होंने बताया कि हमले के बाद मुठभेड़ शुरू हो गई जिसमें सेना के तीन जवान मारे गए। आखिरी बार गोलीबारी सुबह करीब छह बज कर दस मिनट पर हुई।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) मुकेश सिंह ने कहा, ‘‘कुछ लोगों (आतंकवादियों) ने पारगल में सेना के एक शिविर की बाड़ पार करने की कोशिश की। जवानों ने उन्हें रोकने की कोशिश की और इसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। भीषण गोलाबारी में दो आतंकवादी मारे गए।’

मुठभेड़ में छह सैन्यकर्मी घायल हुए थे जिनमें से तीन की मौत हो गई। एडीजीपी ने बताया कि दारहल थाने से करीब छह किलोमीटर दूर स्थित सेना के इस शिविर में अतिरिक्त बल भेजा गया है। उन्होंने कहा कि तलाशी व घेराबंदी अभियान जारी है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.