Friday, May 29, 2020

Live Updates: 65th day of lockdown

Last Updated: Thu May 28 2020 09:53 PM

corona virus

Total Cases

165,028

Recovered

70,556

Deaths

4,695

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA59,546
  • TAMIL NADU18,545
  • NEW DELHI16,281
  • GUJARAT15,572
  • RAJASTHAN7,947
  • MADHYA PRADESH7,453
  • UTTAR PRADESH6,991
  • WEST BENGAL4,192
  • ANDHRA PRADESH3,245
  • BIHAR3,036
  • KARNATAKA2,418
  • PUNJAB2,139
  • TELANGANA2,098
  • JAMMU & KASHMIR1,921
  • ODISHA1,593
  • HARYANA1,381
  • KERALA1,004
  • ASSAM784
  • UTTARAKHAND469
  • JHARKHAND458
  • CHHATTISGARH364
  • CHANDIGARH287
  • HIMACHAL PRADESH273
  • TRIPURA242
  • GOA68
  • PUDUCHERRY49
  • MANIPUR44
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA20
  • NAGALAND9
  • ARUNACHAL PRADESH2
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
Super critical plastic raining from the sky with snow

बर्फ के साथ आसमान से बरसते हैं प्लास्टिक के छोटे-छोटे कण

  • Updated on 8/16/2019

​​​​​नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एक अध्ययन में सामने आया है कि प्लास्टिक के अति सूक्ष्म कण आर्कटिक और आल्पस जैसे सुदूर क्षेत्रों में भी बर्फ के साथ आसमान से बरसते हैं। पिछले कई सालों से समुद्र के पानी में, पेयजल में और यहां तक जानवरों में भी लगातार प्लास्टिक के अति सूक्ष्म कणों का पता चल रहा था।  
 

आर्थिक प्रोत्साहनों की उम्मीद से घरेलू शेयर बाजारों में थमी गिरावट

लेकिन अब जर्मनी के अल्फ्रेड वेगेनर इंस्टीट्यूट के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया है कि प्लास्टिक के अति सूक्ष्म कण वायुमंडल के माध्यम से बहुत ही लंबी दूरी तय कर लेते हैं और बाद में वर्षा खासकर बर्फ के माध्यम से आसमान से नीचे आ जाते हैं। हेल्गो,बावरिया, ब्रीमेन, स्विटरजरलैंड के आल्पस और आर्कटिक क्षेत्रों के बर्फ के नमूनों पर किये गये इस अध्ययन से इस बात की पुष्टि हुई है कि बर्फ के इन नमूनों में प्लास्टिक के अति सूक्ष्म कणों की उच्च मात्रा है।

गूगल पर गलत सर्च पड़ा भारी, महिला ने खोई जिंदगी भर की कमाई

यहां तक आर्कटिक के सुदूर क्षेत्रों, स्वालबार्ड के द्वीप और तैरते बर्फ के चट्टान में भी प्लास्टिक के अति सूक्ष्मकण थे। साइंस एडवांसेज पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन की प्रमुख मेलानी बर्गमैन ने कहा, ‘‘यह निश्चित रूप से स्पष्ट हो गया कि बर्फ में प्लास्टिक के अति सूक्ष्म कण हवा से आये।’’  

पहलूखान हत्याकांड पर टिप्पणी के बाद Priyanka Gandhi के खिलाफ केस

उनकी इस संकल्पना को परागकण पर अतीत में हुए अनुसंधान से बल मिलता है जिसमें विशेषज्ञों ने यह सत्यापित किया कि मध्य अक्षांश से परागणकण हवा में तैरते हुए आर्कटिक तक पहुंच गये। अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि ये परागकण मोटे तौर पर प्लास्टिक के इन सूक्ष्मकणों के आकार के ही हैं।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.