Saturday, Jan 22, 2022
-->
supreme-court-agrees-to-hear-new-petition-of-delhi-jal-board-regarding-yamuna-water-rkdsnt

यमुना जल को लेकर दिल्ली जल बोर्ड की नई याचिका पर कोर्ट सुनवाई को राजी

  • Updated on 3/22/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय सोमवार को दिल्ली जल बोर्ड के एक नये आवेदन पर 25 मार्च को सुनवाई के लिये सहमत हो गया। इस आवेदन में हरियाणा सरकार को यमुना नदी में दूषित जल छोडऩे से रोकने एवं राष्ट्रीय राजधानी के लिए समुचित मात्रा में नदी जल छोडऩे का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। 

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों का ऐलान, कंगना को मिला बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबड़े, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामासुब्रह्मण्यम की पीठ ने मामले को बृहस्पतिवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने पर सहमति जतायी। इससे पहले वकील शहदान फरासात ने लंबित याचिका में ताजा मध्यस्थता अर्जी (आईए) की जल्द सुनवाई करने का उल्लेख किया।     पीठ ने मामले की सुनवाई को 25 मार्च के लिए सूचीबद्ध किया है। 

कांग्रेस ने भाजपा पर लगाया महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने का आरोप

ताजा आवेदन में जल बोर्ड ने कहा है कि न्यायालय हरियाणा सरकार को पानी छोडऩे का निर्देश दे ताकि राष्ट्रीय राजधानी में आशंकित भीषण संकट को टाला जा सके। यह दावा किया गया है कि हरियाणा सरकार ने दिल्ली को बिना शोधित पानी की आपूर्ति घटा दी है जिससे राष्ट्रीय राजधानी में पानी की किल्लत हो गयी है। 

एसयूवी-वाजे मामले में सच पता लगाने में मोदी सरकार को मदद करनी चाहिए : राज ठाकरे 

दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष राघव चड्ढा ने इस माह के शुरू में जारी एक बयान में कहा था कि यमुना के जल स्तर में निरंतर गिरावट आना विशेषकर र्गिमयों के दिनों में तथा प्रदूषणकारी तत्वों की बढ़ोतरी होना, भारी चिंता का विषय है। यमुना के बिना शोधित पानी को वजीरबाद बैराज में संग्रहीत किया जाता है। वर्तमान में दिल्ली को हरियाणा से 47.9 करोड़ गैलन पानी मिलता है। इसके अलावा दिल्ली नौ करोड़ गैलन भूमिगत जल और 25 करोड़ गैलन ऊपरी गंगा नहर से प्राप्त करती है।

किसान महासम्मेलन में पंजाब की कांग्रेस सरकार पर जमकर बरसे केजरीवाल

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.