Saturday, Apr 17, 2021
-->
supreme-court-committee-headed-by-justice-lokur-to-stop-burning-of-stubble-in-delhi-ncr-rkdsnt

दिल्ली-एनसीआर में पराली जलाने पर रोक के लिए जस्टिस लोकूर की अध्यक्षता में बनी कमेटी 

  • Updated on 10/16/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली को जलाने से रोकने को लेकर कदम उठाने के लिये शुक्रवार को शीर्ष अदालत के सेवानिवृत्त न्यायाधीश मदन बी लोकूर की अध्यक्षता में एक सदस्यीय समिति गठित की। पड़ोसी राज्यों में पराली जलाया जाना दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी का बड़ा स्रोत है। 

राफेल डील को लेकर प्रशांत भूषण ने अब पर्रिकर का वीडियो किया शेयर

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमणियन की पीठ ने एनसीसी, एनएसएस और भारत स्काउट्स को समिति की मदद के लिये तैनात किया है। साथ ही पीठ ने इस समिति की नियुक्ति पर सालिसीटर जनरल तुषार मेहता की आपत्ति यह कहते हुये अस्वीकार कर दी कि इन राज्यों को पहले ही सुना जा चुका है। 

प्रियंका गांधी ने ‘फोटो सेशन’ को लेकर सीएम योगी पर किया कटाक्ष

शीर्ष अदालत ने न्यायालय द्वारा नियुक्त पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण और हरियाणा, पंजाब तथा उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिवों को निर्देश दिया कि वे लोकूर समिति के साथ सहयोग करें ताकि वह उन खेतों को स्वंय देख सकें जहां पराली जलाई गयी है। पीठ ने संबंधित राज्यों से कहा कि वे लोकूर समिति के लिये समुचित सुरक्षा, सचिवालय की सुविधायें और आने जाने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। 

कॉर्पोरेट घरानों ने पार्टियों को दिया 876 करोड़ रुपये का चंदा, भाजपा की झोली भरी

पीठ ने कहा कि यह समिति हर पखवाड़े अपनी रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय को सौंपेगी। उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान जस्टिस मदन लोकूर ने पराली जलाने के पहलू सहित प्रदूषण से जुड़े मामलों की सुनवाई की थी। पीठ पराली जलाने की वजह से प्रदूषण की स्थिति को लेकर आदित्य दुबे की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

फिल्म ‘गुंजन सक्सेना’ मामले में हाई कोर्ट ने गेंद केंद्र, धर्मा प्रोडक्शन, करण जौहर के पाले में डाली

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.