Tuesday, Jan 18, 2022
-->
supreme court expressed happiness over central govt to cancel the 12th class board pragnt

सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द करने के केंद्र के फैसले पर जताई खुशी

  • Updated on 6/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं रद्द कर दी है। केंद्र सरकार के इस फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने खुशी जताई है। इससे पहले केंद्र के निर्णय का मंगलवार को राज्यों ने स्वागत किया और कहा कि विद्यार्थियों एवं अध्यापकों की सुरक्षा के लिए इसकी जरूरत थी।

देश में Covid-19 टीके की 22 करोड़ से अधिक लगाई गईं डोज, जानें किस उम्र को मिली कितनी खुराक

इन राज्यों में हुई 12वीं की परीक्षा रद्द
केंद्र सरकार द्वारा देश में सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा रद्द किए जाने के एक दिन बाद मध्य प्रदेश, गुजरात और उत्तराखंड सरकार ने बुधवार को 12वीं की राज्य बोर्ड परीक्षा/इंटरमीडिएट रद्द करने का फैसला किया है। कोरोना महामारी के दौर में विद्यार्थियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है। महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, कर्नाटक, गोवा और उत्तर प्रदेश उन राज्यों में शामिल है जिन्होंने कहा कि वह जल्द ही इस संबंध में अंतिम निर्णय का ऐलान करेंगे।

CBSE के बाद अब तक इन राज्यों में हुई 12वीं की परीक्षा रद्द

12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द
बता दें कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर केंद्र सरकार ने मंगलवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह फैसला छात्रों के हितों को ध्यान में रखकर लिया गया है। प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई एक महत्वपूर्ण बैठक के बाद इस फैसले की घोषणा की गई। साथ ही यह फैसला भी हुआ कि सीबीएसई 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के परिणामों को समयबद्ध तरीके से एक पूर्णत: स्‍पष्‍ट उद्देश्यपरक मानदंड के अनुसार संकलित करने के लिए आवश्‍यक कदम उठाएगा।

बिना परीक्षा के आएगा 12वीं का रिजल्ट, DU के वीसी ने बताया कैसे होगा दाखिला

छात्रों के हित में लिया गया फैसला - PM मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'छात्रों का स्वास्थ्य और उनकी सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है और इससे किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जा सकता है।' उन्होंने कहा कि परीक्षा को लेकर छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों की उत्सुकता को समाप्त किया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे तनाव भरे माहौल में छात्रों को परीक्षा में शामिल होने को लेकर दबाव नहीं डाला जाना चाहिए। पीएमओ ने कहा, 'कोविड के कारण उत्‍पन्‍न अनिश्चित परिस्थितियों और विभिन्न हितधारकों से प्राप्त राय एवं सुझावों को ध्‍यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया कि इस वर्ष 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं नहीं कराई जाएंगी।'

वहीं विद्यार्थियों एवं अभिभावकों ने भी इस फैसले से राहत महसूस की। ट्विटर पर पिछले पंद्रह दिनों से 'कैंसल बोर्ड एक्जाम्स' हैशटैग से अभियान चल रहा था। परीक्षा रद्द होने के बाद 'बोर्ड एक्जाम्स कैंसल्ड' से लोगों ने सोशल मीडिया पर खुशी मनाई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.