Sunday, Sep 27, 2020

Live Updates: Unlock 4- Day 26

Last Updated: Sat Sep 26 2020 10:00 PM

corona virus

Total Cases

5,954,932

Recovered

4,893,664

Deaths

93,914

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA1,300,757
  • ANDHRA PRADESH668,751
  • TAMIL NADU563,691
  • KARNATAKA548,557
  • UTTAR PRADESH382,835
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • NEW DELHI264,450
  • WEST BENGAL241,059
  • ODISHA196,888
  • TELANGANA183,866
  • BIHAR180,788
  • KERALA167,940
  • ASSAM165,582
  • GUJARAT131,808
  • RAJASTHAN124,730
  • HARYANA122,267
  • MADHYA PRADESH119,899
  • PUNJAB107,096
  • CHHATTISGARH93,351
  • JHARKHAND75,089
  • CHANDIGARH70,777
  • JAMMU & KASHMIR67,510
  • UTTARAKHAND43,720
  • GOA29,879
  • PUDUCHERRY24,227
  • TRIPURA23,786
  • HIMACHAL PRADESH13,049
  • MANIPUR9,376
  • NAGALAND5,671
  • MEGHALAYA4,961
  • LADAKH3,933
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS3,712
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2,965
  • SIKKIM2,548
  • MIZORAM1,713
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
supreme court fresh probe allegations detention of minors by security forces jammu and kashmir

कश्मीर में नाबालिगों को हिरासत में लेने की फिर से जांच हो: सुप्रीम कोर्ट

  • Updated on 11/5/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय की चार सदस्यीय किशोर न्याय समिति को राज्य में अनुच्छेद 370 के अनेक प्रावधान रद्द करने के निर्णय के बाद सुरक्षा बलों द्वारा नाबालिगों को हिरासत में रखने के आरोपों की नये सिरे से जांच का आदेश दिया है। न्यायमूर्ति एन वी रमण, न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति  बी आर गवई की तीन सदस्यीय पीठ ने किशोर न्याय समिति से कहा कि वह अपनी रिपोर्ट यथाशीघ्र पेश करे। पीठ ने इसके साथ ही इस मामले को तीन दिसबंर को सुनवाई के लिये सूचीबद्ध कर दिया है। 

अयोध्या फैसले से पहले मुस्लिम समुदाय को लेकर RSS-BJP सक्रिय

पीठ ने कहा कि इन आरोपों की नये सिरे से जांच की आवश्यकता है क्योंकि समिति की पहले की रिपोर्ट समयाभाव की वजह से शीर्ष अदालत के आदेश के अनुरूप नहीं थी। शीर्ष अदालत कश्मीर घाटी में गैरकानूनी तरीके से नाबालिगों को कथित रूप से हिरासत में लिये जाने का मुद्दा उठाने वाली एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी। बाल अधिकार कार्यकर्ताओं और जम्मू कश्मीर प्रशासन के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद पीठ ने कहा, ‘‘समिति को सौंपा गया काम समयाभाव की वजह से शीर्ष अदालत के आदेश की भावना के अनुरूप नहीं किया गया।’’ 

वकीलों की मारपीट से नाराज पुलिसकर्मियों ने केजरीवाल पर साधा निशाना

पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत का 20 सितंबर का आदेश समिति के पास 23 सितंबर को पहुंचा था और दो दिन बाद जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक ने मीडिया और याचिका में इस बारे में किये गये दावों और आरोपों का 25 सितंबर को सिरे से खंडन किया। समिति की रिपोर्ट में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के निष्कर्ष भी शामिल थे जिसमे कश्मीर मे गैरकानूनी तरीके से किशोरों को हिरासत में रखने के आरोपों से इंकार किया गया था। 

मुकुल रॉय की गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण की अवधि कलकत्ता हाई कोर्ट ने बढ़ायी

समिति ने शीर्ष अदालत से कहा था कि केन्द्र द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करने के बाद राज्य में 144 किशोर हिरासत मे लिये गये थे लेकिन इनमें से 142 को बाद में रिहा कर दिया गया था। समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि शेष दो नाबालिगों को किशोर सुधार गृह में भेज दिया गया था। यह मामला एक अक्टूबर को जब सुनवाई के लिये आया था तो बाल अधिकार कार्यकर्ता इनाक्षी गांगुली और शांता सिन्हा की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता हुजेफा अहमदी ने कहा था कि वह इस रिपोर्ट पर अपना जवाब दाखिल करना चाहेंगे। 

अमित शाह के बेटे जय शाह की आय को लेकर कांग्रेस ने बोला बड़ा हमला

अहमदी मंगलवार को जब अपनी दलीलें पेश कर रहे थे तो इसी दौरान पीठ ने समिति के सदस्यों के बारे में प्रयुक्त आपत्तिजनक भाषा की ओर उनका ध्यान आर्किषत किया और कहा कि इन्हें वापस लेना होगा। अहमदी ने इस सुझाव से सहमति व्यक्त करते हुये कहा कि वह एक हलफनामा दाखिल करके इन्हें वापस ले लेंगे। पीठ ने कहा कि चार सदस्यीय समिति के सदस्य न्यायाधीश हैं और उनके बारे में ऐसे शब्दों का इस्तेमाल स्वीकार नहीं किया जा सकता । पीठ ने कहा कि समिति की अपनी सीमायें हैं और शायद सदस्यों के पास समय की भी कमी थी। 

चिन्मयानंद प्रकरण : #BJP के दो नेताओं के पास से मिली पीड़िता से छीनी गई पेन ड्राइव

पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता को याद दिलाया कि जब पहली बार यह मामला सुनवाई के लिये आया था तो याचिकाकर्ताओं ने दावा किया था कि उच्च न्यायालय में न्याय के लिये नहीं पहुंचा जा सकता। इस पर प्रधान न्यायाधीश ने उच्च न्यायालय से रिपोर्ट मांगी थी। इस मामले की सुनवाई के दौरान मौजूद अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल से पीठ ने किशोर न्याय समिति की रिपोर्ट के बारे में पूछा। वेणुगोपाल ने कहा कि इस मामले में जम्मू कश्मीर प्रशासन के साथ केन्द्र भी प्रतिवादी है और उसका ²ष्टिकोण प्रशासन वाला ही है। 

सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने मामले की सुनवाई स्थगित करने का अनुरोध किया लेकिन पीठ ने कहा कि इस तरह के महत्वपूर्ण मामले में विलंब नहीं किया जा सकता। मेहता का कहना था कि याचिकाकर्ता कानूनी प्रक्रिया का दुरूपयोग कर रहे हैं और उन्हें शीर्ष अदालत की बजाये उच्च न्यायालय में याचिका दायर करनी चाहिए थी।      उन्होंने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत में पहले यह झूठा दावा किया था कि उच्च न्यायालय काम नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि इस याचिका को लंबित नहीं रखा जाना चाहिए क्योंकि उच्च न्यायालय राहत के लिये उपलब्ध है और किशोर न्याय समिति काम कर रही है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.