Sunday, Dec 05, 2021
-->
supreme court has praised the up  say yogi adityanath

सुप्रीम कोर्ट ने की है यूपी मॉडल की तारीफ : योगी आदित्यनाथ

  • Updated on 7/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को दावा किया कि उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 महामारी के दौरान प्रवासी श्रमिकों के मसलों से निपटने में उनकी सरकार की सराहना की है। योगी ने गोरखपुर ग्रामीण, पिपराइच, सहजनवा, बांसगांव तथा कुछ अन्य विधानसभा क्षेत्रों में 80 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली 133 विकास परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास के बाद अपने संबोधन में कहा कि उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 महामारी के दौरान अपने घरों को लौटे प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के मामले में ‘यूपी मॉडल’ की सराहना की है। 

दिल्ली हाई कोर्ट ने CBSE को छात्रों की परीक्षा फीस लौटाने पर विचार करने का दिया निर्देश 

उन्होंने कहा कि कोविड-19 की वजह से जिन लोगों की मौत हुई है, सरकार उनके परिवारों के साथ है। इस महामारी में अपने माता-पिता को खो चुके बच्चों को सरकार हर महीने 4000 रुपये देगी और उनकी शिक्षा का भी ख्याल रखेगी। योगी ने दावा किया कि उनकी सरकार राज्य के हर जिले और कस्बे में विकास योजनाओं को पहुंचाने में कोई कसर बाकी नहीं रख रही है। ऐसे में जब पूरी दुनिया कोविड-19 महामारी से जूझ रही थी, गोरखपुर की सभी विकास परियोजनाएं पूरी की गयीं। 

मानसून सत्र से पहले पीयूष गोयल राज्यसभा में बनाए गए सदन के नेता 

मुख्यमंत्री ने कोविड-19 महामारी का जिक्र करते हुए कहा कि कोरोना वायरस कमजोर भले हो गया हो लेकिन अभी खत्म नहीं हुआ है। हर किसी को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में मास्क पहनना चाहिए और सामाजिक दूरी बनाए रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 का टीका एक सुरक्षा कवच है और सरकार इसे मुफ्त में उपलब्ध करा रही है, लिहाजा लोगों को इसे लापरवाही से नहीं लेना चाहिए और टीकाकरण जरूर कराना चाहिए।

तीसरी लहर से निपटने की तैयारियों का खाका रखे सरकार : कांग्रेस 
कांग्रेस ने कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर से निपटने की उत्तर प्रदेश सरकार की तैयारी महज कागजों तक सीमित होने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि राज्य सरकार को अपनी तैयारियों का ब्लूपिं्रट (खाका) जनता के सामने रखना होगा। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने यहां एक बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर दस्तक दे चुकी है, मगर उत्तर प्रदेश सरकार की तैयारी दूसरी लहर की ही तरह केवल कागजों पर सीमित है। 

संसद सत्र को लेकर आंदोलित किसानों ने विपक्षी दलों पर बनाया दबाब

उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए कि पारदर्शी तरीके से जनता को विश्वास में लेते हुए कोरोना की तीसरी लहर के लिए की गई तैयारियों के बारे में बताए। प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को अपनी तैयारियों का खाका जनता के सामने रखना होगा। लल्लू ने दावा किया कि रिपोर्टों के आधार पर बात करें तो देश में कोविड-19 टीकाकरण में 60 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। 

बढ़ती महंगाई के बीच मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों का बढ़ाया DA

तमाम राज्यों ने केंद्र सरकार से अपने यहां टीके की कमी होने की बात बताई है। आधा जुलाई माह बीतने को है, लेकिन अभी तक जिलों में मांग के अनुरूप टीके की खुराक नहीं मिल रही है। राज्य में कोई भी दिन ऐसा नहीं बीता जब जिलों से टीके की किल्लत की खबर ना आए।      विशेषज्ञों ने तीसरी लहर की तैयारी के संदर्भ में सबसे महत्वपूर्ण बात यह कही थी कि चिकित्सीय सुविधाओं का विकेंद्रीकरण यानी सामुदायिक चिकित्सालय तक सरकार की तैयारी होनी चाहिए। इस मोर्चे पर सरकार पूरी तरह नाकाम नजर आती है।

 

 

 

 

comments

.
.
.
.
.