Wednesday, Jun 29, 2022
-->
supreme court not give impetus to constitutionally important matters say cpim mouthpiece rkdsnt

संवैधानिक रूप से अहम मामलों को सुप्रीम कोर्ट ने नहीं दी रफ्तार : माकपा मुखपत्र

  • Updated on 4/28/2022

 दिल्ली/ टीम डिजिटल। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि उच्चतम न्यायालय अनुच्छेद 370 के विशेष प्रावधानों को खत्म करने को चुनौती देने वाली याचिकाओं समेत संवैधानिक रूप से महत्वपूर्ण कई मामलों को गति देने में विफल रहा है। उसने अपने मुखपत्र ‘पीपुल्स डेमोक्रेसी’ के ताजा संपादकीय में यह आरोप भी लगाया कि देश की शीर्ष अदालत अपनी न्यायिक जिम्मेदारी को निभाने से पीछे हट रही है। 

BHU परिसर में इफ्तार को लेकर छात्रों का विरोध प्रदर्शन, प्रशासन नाराज 

  •  

इसमें कहा गया है कि प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन वी रमण ने कहा है कि वह अनुच्छेद 370 को खत्म करने को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई जुलाई में बहाल करने पर विचार करेंगे। वह 26 अगस्त को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। वामपंथी दल ने कहा कि संवैधानिक रूप से महत्वूपर्ण कई मामले उच्चतम न्यायालय के समक्ष विचाराधीन हैं। 

RSS प्रमुख भागवत ने सिंधी विश्वविद्यालय स्थापित करने पर दिया जोर

संपादकीय में दावा किया किया गया कि चुनावी बॉन्ड को चुनौती देने वाली याचिकाएं चार साल से अधिक समय से लंबित है और संशोधित नागरिकता कानून को चुनौती देने वाली याचिकाएं दो साल से लंबित हैं, लेकिन कोई विचार नहीं हुआ। 

दिल्ली-केंद्र सर्विस कंट्रोवर्सी : विवाद को 5 सदस्यीय पीठ के पास भेजने पर फैसला लेगा सुप्रीम कोर्ट

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.