Tuesday, Jun 22, 2021
-->
supreme court panel discusses with agricultural professionals and scholars rkdsnt

किसान आंदोलन के बीच सुप्रीम कोर्ट के पैनल ने की कृषि विशेषज्ञों से चर्चा

  • Updated on 2/15/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। तीन नए कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति ने सोमवार को कहा कि उसने इन कानूनों पर मशहूर अकादमिक विद्वानों एवं कृषि पेशेवरों के साथ परामर्श किया। किसान इन कानूनों के विरोध में दो महीने से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। समिति की यह अब तक की सातवीं बैठक है। तीन सदस्यीय यह समिति संबंधित पक्षों के साथ आमने-सामने और ऑलनलाइन विचार विमर्श कर रही है। 

केजरीवाल कृषि कानूनों के खिलाफ यूपी में किसान महापंचायत को करेंगे संबोधित

एक बयान में समिति ने कहा कि उसने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिग के जरिए मशहूर अकादमिक विद्वानों एवं कृषि पेशेवरों के साथ चर्चा की। उसने कहा, ‘‘कुल सात मशहूर अकादमिक विद्वानों एवं इस क्षेत्र के पेशेवरों ने समिति के सदस्यों के साथ विस्तृत चर्चा में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लिया।’’ समिति के सदस्यों ने उनसे तीनों कृषि कानूनों पर अपने विचार रखने का अनुरोध किया। बयान में कहा गया है, ‘‘ सभी पेशेवरों एवं विद्वानों ने विस्तार से अपने विचार एवं सुझाव रखे।’’ 

हाई कोर्ट का सुशांत राजपूत की बहन के खिलाफ FIR खारिज करने से इनकार

उच्चतम न्यायालय ने 12 फरवरी को तीनों विवादास्पद कानूनों के क्रियान्वयन पर दो महीने के लिए रोक लगा दी थी और समिति से संबंधित पक्षों के साथ विचार विमर्श करके दो महीने में रिपोर्ट देने को कहा था।

कन्हैया का मोदी सरकार पर तंज, बोले- उनके बच्चे BCCI के अध्यक्ष बनेंगे और आपके...

खासकर पंजाब और हरियाणा के हजारों किसान नये कानूनों को निरस्त करने की मांग करते हुए दो महीने से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। उनका कहना है कि ये कानून उद्योगपतियों के पक्ष में हैं तथा वे मंडी प्रणाली को तबाह कर देंगे। केंद्र और किसान नेताओं के बीच 11 दौर की बातचीत के बाद भी गतिरोध बना हुआ है।     

सचिन समेत सेलिब्रिटी ट्वीट मामले में ठाकरे सरकार के निशाने पर BJP आईटी सेल

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.