Wednesday, Jan 27, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 27

Last Updated: Wed Jan 27 2021 10:40 AM

corona virus

Total Cases

10,690,279

Recovered

10,358,328

Deaths

153,751

  • INDIA10,690,279
  • MAHARASTRA2,009,106
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA936,051
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU834,740
  • NEW DELHI633,924
  • UTTAR PRADESH598,713
  • WEST BENGAL568,103
  • ODISHA334,300
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN316,485
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH296,326
  • TELANGANA293,056
  • HARYANA267,203
  • BIHAR259,766
  • GUJARAT258,687
  • MADHYA PRADESH253,114
  • ASSAM216,976
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB171,930
  • JAMMU & KASHMIR123,946
  • UTTARAKHAND95,640
  • HIMACHAL PRADESH57,210
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM6,068
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,993
  • MIZORAM4,351
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,377
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
supreme court rebuke iit bombay withdrawal delhi smog tower construction work kmbsnt

स्मॉग टावर निर्माण से पीछे हटने पर IIT मुंबई को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, दी ये चेतावनी

  • Updated on 7/30/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में वायु प्रदूषण नियंत्रित करने के लिए स्मॉग टावर परियोजना से पीछे हटने पर सुप्रीम कोर्ट ने आईआईटी मुंबई पर नाराजगी जताई और फटकार लगाते हुए अवमानना की कार्रवाई की चेतावनी दी है। न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने नाराजगी जताते हुए कहा कि आदेश देने के बाद मुंबई आईआईटी पीछे कैसे हट सकती है? यह बच्चों का खेल है क्या? हम ऐसी बकवास को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं। हम अब मानना की कार्रवाई शुरू करेंगे। 

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अगुवाई वाली पीठ दिल्ली में प्रदूषण मामले की सुनवाई कर रही है। न्यायालय ने आदेश दिया कि शहर में स्मॉग टावर लगाया जाए। इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि आईआईटी मुंबई ने इस परियोजना से अपने हाथ खींच लिए हैं। हम इस पूरे मामले पर आईआईटी दिल्ली और नेरी से बातचीत कर रहे हैं।

यह सुनते ही सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश ने तीखे लहजे में कहा कि 6 महीने बाद आईआईटी मुंबई पीछे कैसे हट सकती है? यह क्या बकवास है? यह कोर्ट की अवमानना है। हम आईआईटी मुंबई के खिलाफ कार्रवाई करेंगे और उन्हें दंडित करेंगे।

दिल्ली में थम रहा कोरोना का कहर, जानिए 24 घंटे में आए कितने नए केस

विजिट के 6 महीने बाद परियोजना से हाथ खींचने का मतलब क्या है? 
सर्वोच्च न्यायालय ने फटकारते हुए कहा कि आईआईटी मुंबई और टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के अधिकारियों द्वारा विजिट के 6 महीने बाद परियोजना से हाथ खींचने का मतलब क्या है?  यदि कोई बात थी तो वह पीठ को बताते इसीलिए उन्हें दंडित किया जाएगा। दरअसल चीन की तरह भारत में भी हवा साफ करने के लिए ऐसा टावर बनाने के लिए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और आईआईटी मुंबई के बीच 6 महीने पहले करार हुआ था। इस पर बजाप्ता सर्वोच्च न्यायालय ने आदेश दिया था।

भारत की हवा बेहद खराब! 5 साल कम हो रही जिंदगी, दिल्ली में 9 साल कम जी रहे हैं लोग, पढ़े रिपोर्ट

आईआईटी मुंबई के पक्ष की आशा
न्यायमूर्ति विनीत सरन और एमआर शाह ने सॉलिसिटर जनरल को 15 मिनट का समय देते हुए कहा कि वह आईआईटी के अधिकारियों से बात करके पूरे मामले से अवगत करवाएं। इस पर उन्होंने कहा कि यह बहुत कम समय है। मैं आईआईटी में किसी को जानता तक नहीं हूं। इसके बाद पीठ ने गुरुवार तक का समय देते हुए कहा कि हम आईआईटी मुंबई के पक्ष की आशा करते हैं। हालांकि इससे पहले दाखिल एक शपथपत्र में कहा है कि आईआईटी मुंबई पूरी तरह से परियोजना से बाहर नहीं हुआ है। बस व परियोजना में अपनी भूमिका कम करने की तैयारी में है। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.