Sunday, Feb 23, 2020
supreme court reinstated female employee accused of sexual misconduct former cji ranjan gogoi

जस्टिस गोगोई के खिलाफ यौन प्रताड़ना का आरोप लगाने वाली पूर्व महिला कर्मचारी सेवा में बहाल

  • Updated on 1/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने देश के पूर्व प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ यौन दुराचार का आरोप लगाने वाली एक पूर्व महिला कर्मचारी को सेवा में बहाल कर दिया है। उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक महिला ड्यूटी ज्वाइन कर चुकी है और छुट्टी पर गयी है। उसका सारा बकाया भी मंजूर हो चुका है। 

अयोध्या में राम मंदिर के लिए ‘ग्राम-ग्राम, राम-राम’ मुहिम चलाएंगे संत

न्यायमूर्ति एस ए बोबडे (अब प्रधान न्यायाधीश) के नेतृत्व में शीर्ष न्यायालय की तीन सदस्यीय आंतरिक जांच समिति ने पिछले साल मई में तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश को क्लीनचिट दी थी क्योंकि महिला द्वारा उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों में कोई दम नहीं पाया गया था। 

#BJP प्रत्याशी कपिल मिश्रा को लेकर #AAP ने लगाई चुनाव आयोग से गुहार

दिल्ली की एक अदालत ने पिछले साल सितंबर में महिला कर्मचारी के खिलाफ धोखाधड़ी और आपराधिक धमकी का मामला बंद करते हुए नगर पुलिस की क्लोजर रिपोर्ट स्वीकार कर ली थी। मामले में शिकायतकर्ता हरियाणा के झज्जर के निवासी नवीन कुमार ने कहा था कि याचिका के विरोध में वह नहीं है और वह मामले को नहीं चलाना चाहता है। 

Exclusive Interview में कंगना रनौत बोलीं- देश में 'पंगे' नहीं, 'दंगे' हो रहे हैं

कुमार द्वारा यहां तिलक मार्ग थाने में शिकायत के बाद महिला के खिलाफ धोखाधड़ी और आपराधिक धमकी और आपराधिक साजिश के कथित आरोपों के लिए पिछले साल तीन मार्च को प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। 

हार्दिक पटेल को राजद्रोह के मामले में मिली सशर्त जमानत

महिला ने पिछले साल अप्रैल में उच्चतम न्यायालय के 22 न्यायाधीशों के आवास पर शपथ पत्र भेजकर तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश गोगोई के खिलाफ आरोप लगाए थे। महिला ने दावा किया था कि उसका तबादला कर दिया गया और फिर सेवा से बर्खास्त कर दिया गया। 

कन्हैया कुमार ने #CAA को लेकर अमित शाह की चुनौती पर किया कटाक्ष

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.