Monday, Nov 29, 2021
-->
Supreme Court reserves its decision on issue of reservation in promotion for SC ST rkdsnt

SC/ST को पदोन्नति में आरक्षण देने के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा अपना फैसला

  • Updated on 10/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) को पदोन्नति में आरक्षण देने के मुद्दे पर अपना फैसला मंगलवार को सुरक्षित रख लिया। 

AAP के मुफ्त चुनावी वादों से भाजपा में खलबली, योगी ने साधा केजरीवाल पर निशाना

जस्टिस एल नागेश्वर राव, जस्टिस संजीव खन्ना और न्यायर्मित बी आर गवई की तीन सदस्यीय पीठ ने अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल, अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) बलबीर सिंह और विभिन्न राज्यों की तरफ से पेश हुए अन्य वरिष्ठ अधिवक्ताओं सहित पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कहा कि इस पर फैसला बाद में सुनाया जायेगा। 

ममता ने BSF के बढ़ते अधिकार क्षेत्र को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना

केंद्र ने पूर्व में पीठ से कहा था कि यह एक तथ्य है कि लगभग 75 वर्षों के बाद भी अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों को अगड़े वर्गों के समान योग्यता के स्तर पर नहीं लाया गया है।

NCB की कोर्ट में दलील- आर्यन खान ना सिर्फ ड्रग्स लेते थे, बल्कि अवैध तस्करी में भी शामिल थे

वेणुगोपाल ने कहा था कि एससी और एसटी से संबंधित लोगों के लिए समूह ए श्रेणी की नौकरियों में उच्च पद प्राप्त करना अधिक कठिन है और समय आ गया है जब शीर्ष अदालत को एससी, एसटी और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) द्वारा इन रिक्तियों को भरे जाने के लिये कुछ ठोस आधार देने चाहिए।

नवाब मलिक बोले - ज्ञानदेव वानखेड़े को समीर वानखेड़े का जन्म प्रमाणपत्र दिखाना चाहिए

इससे पहले, शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह एससी और एसटी को पदोन्नति में आरक्षण देने के अपने फैसले को फिर से नहीं खोलेगा क्योंकि यह राज्यों को तय करना है कि वे इसे कैसे लागू करते हैं। 

आश्रम वेब सीरीज के खिलाफ मप्र के गृहमंत्री, प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- अब साधु-संत देखेंगे फिल्में 

comments

.
.
.
.
.