Monday, May 10, 2021
-->
supreme court says people who ruin education  will be dealt with vigorously rkdsnt

कोर्ट ने व्यापम घोटाले की दिलाई याद, कहा- बर्बाद नहीं होने देंगे शिक्षा प्रणाली को

  • Updated on 2/23/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने 2016 के ‘विश्वविद्यालय पूर्व’ प्रश्न पत्र लीक मामले में आरोपी की जमानत के कर्नाटक उच्च न्ययालय के आदेश पर मंगलवार को रोक लगाते हुए कहा कि वह (शीर्ष न्यायालय) शिक्षा प्रणाली को बर्बाद कर रहे लोगों को इसके जरिए यह संदेश देना चाहता है कि उनसे सख्ती से निपटा जाएगा।

उत्तर पूर्वी दिल्ली दंगों पर अल्पसंख्यक आयोग की फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट के खिलाफ याचिका

 शीर्ष न्यायालय ने टिप्पणी की, ‘‘हम जानते हैं कि मध्य प्रदेश में व्यापम घोटाले में क्या हुआ था। हमारे पास ऐसे मामले आ रहे हैं, जिनमें शिक्षा प्रणाली को विकृत कर दिया गया है। शिक्षा प्रणाली को बर्बाद करने की कोशिश करने वाले लोगों को हम यह संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं कि उनसे सख्ती से निपटा जाएगा। ’’ 

पामेला ड्रग्स मामला : भाजपा नेता राकेश सिंह पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार 

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे और जस्टिस ए एस बोपन्ना तथा जस्टिस वी रामासुब्रमण्यन की पीठ ने कर्नाटक सरकार की याचिका पर एक नोटिस भी जारी किया। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने आरोपी को पिछले साल उच्च न्यायालय से मिली जमानत को चुनौती दी है। 

किसान महापंचायत में योगेंद्र बोले- आने वाली पीढ़ी के लिए दरवाजे बंद कर देंगे नये कृषि कानून

 

यूपी के शाहजहांपुर में अधजली, नग्न अवस्था में मिली स्नातक की छात्रा

उच्च न्यायालय ने 28 फरवरी 2020 को आरोपी शिवकुमारैया उर्फ गुरुजी को 2016 के प्रश्न पत्र लीक मामले में जमानत दी थी। वहीं, एक अन्य याचिका पर पीठ ने 13 दिसंबर 2019 के उच्च न्यायालय के उस आदेश पर रोक लगा दी, जिसके तहत उसने सह आरोपी श्री ओबलाराजू को प्रश्न पत्र मामले में दोषमुक्त कर दिया था।  

अमित शाह के खिलाफ मानहानि मामले को विशेष अदालत ने मजिस्ट्रेट अदालत भेजा

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

comments

.
.
.
.
.