Monday, May 10, 2021
-->
supreme court seeks response from modi bjp govt on how to refund air ticket amount rkdsnt

एयर टिकट की रकम लौटाने के तरीके पर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार से मांगा जवाब

  • Updated on 9/23/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने बुधवार को केन्द्र से कहा कि वह कोविड-19 महामारी के दौरान उड़ानें रद्द होने के मद्देनजर विमान यात्रियों और ट्रैवेल एजेन्टों को टिकटों के पैसों की वापसी के तरीके के बारे में शुक्रवार तक स्थिति स्पष्ट करे। शीर्ष अदालत ने केंद्र को विमान यात्रियों के टिकटों का पैसा लौटाने के तरीके के संबंध में 25 सितंबर तक नया हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया। सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने स्वीकार किया कि मौजूदा हलफनामा ठीक से तैयार नहीं किया गया है। 

हाथों में धान की फसल लेकर कांग्रेस सांसदों ने कृषि विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन किया 

जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस एम आर शाह की पीठ ने कहा कि उसका सरोकार धन लौटाने और लॉकडाउन के दौरान बुक किये गये टिकटों का पैसा नहीं लौटाने के सवाल तक सीमित है। गैर सरकारी संगठन ‘प्रवासी लीगल सेल’ की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता संजय हेगड़े ने कहा कि अगर कोई एयर इंडिया और इंडिगो आदि विमान से यात्रा के लिये टिकट बुक कराता है, भारत से बाहर जाता है तो उसी स्थिति में नागरिक उड्डयन महानिदेशालय का यह हलफनामा लागू होगा। 

दीपिका, श्रद्धा और सारा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ड्रग्स मामले में NCB ने भेजा समन

उन्होंने कहा कि महानिदेशालय को उन लोगों को भी धन वापसी के लिये इसमें शामिल करना चाहिए जिन्होंने खाड़ी के देशों जैसे गंतव्यों से भारत लौटने के लिये टिकट बुक कराये थे। इसलिए इस विवाद को हल करने की आवश्यकता है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय और डीजीसीए की ओर से सालिसीटर जरनल तुषार मेहता ने कहा कि सरकार ने सभी की भलाई को ध्यान में रखते हुये टिकटों का पैसा लौटाने का फैसला लिया है और इसका उचित समाधान निकाल लिया जायेगा।      मेहता ने कहा कि यात्रियों और विमान कंपनियों के हितों को ध्यान में रखते हुये ही निर्णय लिया गया है। 

विपक्षी दलों के नेताओं ने राष्ट्रपति से कृषि विधेयकों को वापस भेजने का किया आग्रह

पीठ ने सालिसीटर जनरल से जानना चाहा कि मान लीजिये कि लॉकडाउन से एक दिन पहले एक यात्री लॉकडाउन के दौरान यात्रा के लिये टिकट बुक कराता है तो उसकी टिकट के पैसे की वापसी का क्या होगा। मेहता ने कहा कि उसे तत्काल पैसा वापस नहीं मिलेगा। इस पर पीठ ने जानना चाहा कि उन ट्रैवेल एजेन्टों का क्या होगा जिन्होंने बुक कराये गये टिकटों के लिये पहले ही भुगतान कर दिया है। पीठ ने मेहता से कहा, ‘‘आप कहते हैं कि यात्री को क्रेडिट लाभ मिलेगा लेकिन ट्रैवेल एजेन्ट के मामले में क्या होगा अगर यात्री को बुक कराये गये टिकट का अभी भुगतान करना हो तो।’’ 

मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा बोले- मैं मास्क नहीं पहनता, कांग्रेस ने उठाए सवाल

एयर विस्तारा और एयर एशिया की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता पिनाकी मिश्रा ने कहा कि आमतौर पर ट्रैवल एजेन्ट विमान कंपनियों के पास एक करोड़ रूपए तक धन जमा करा देते हैं और प्रत्येक टिकट बुक होने पर इसमें शेष कम होता जाता है। उन्होंने कहा कि अगर यात्री ने अभी तक टिकट का पैसा नहीं दिया है तो विमान कंपनियों के पास जमा धन में से ट्रैवेल एजेन्ट को वापस मिलेगा। पीठ ने टिकट का पैसा लौटाने के विभिन्न तरीकों पर चर्चा के दौरान मेहता से जानना चाहा कि अगर ट्रैवल एजेन्ट के माध्यम से टिकट बुक कराया गया हो तो क्या धन वापसी का वाउचर उन्हें नहीं दिया जाना चाहिए। 

सुनवाई के दौरान पैसेन्जर्स एसोसिएशन की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सी ए सुन्दरम, ट्रैवल एजेन्ट्स फेडरेशन की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता पल्लव सिसोदिया और कुछ विमान कंपनियों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अरविंद दातार ने भी दलीलें पेश कीं। न्यायालय ने नौ सितंबर को केन्द्र से जानना चाहा था कि क्या वह कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान विमान यात्रा के लिये बुक कराये गये टिकटों का पूरा पैसा वापस करने के लिये तैयार है। पीठ ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये इस मामले की सुनवाई के दौरान नागरिक उड्डयन महानिदेशालय के हलफनामे का जिक्र किया था जिसमें कहा गया था कि लॉकडाउन के दौरान बुक किये गये टिकटों का पूरा पैसा विमान कंपनियों द्वारा लौटाया जायेगा।  

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

comments

.
.
.
.
.