Friday, Jul 23, 2021
-->
Supreme Court sends 2009 contempt case against Prashant Bhushan to another bench rkdsnt

भूषण के खिलाफ 2009 के अवमानना केस सुप्रीम कोर्ट ने दूसरी पीठ को भेजा

  • Updated on 8/25/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कार्यकर्ता-अधिवक्ता प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) तथा पत्रकार तरूण तेजपाल के खिलाफ 2009 के अवमानना मामले को मंगलवार को दूसरी पीठ को सौंपने का फैसला किया है। एक समाचार पत्रिका को दिए साक्षात्कार में भूषण ने शीर्ष अदालत के कुछ तत्कालीन न्यायाधीशों और पूर्व न्यायाधीशों पर कथित तौर पर कुछ आरोप लगाए थे, जिसके बाद शीर्ष अदालत ने नवंबर 2009 में भूषण और तेजपाल को अवमानना के नोटिस जारी किये थे। जिस पत्रिका को भूषण ने साक्षात्कार दिया था, उसके संपादक तेजपाल थे। 

पुलवामा आतंकी हमला: NIA ने दायर किया 19 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष प्रशांत भूषण की ओर से पेश अधिवक्ता राजीव धवन ने कहा था कि उनके मुवक्किल की ओर से उठाए गए कम से कम दस प्रश्न ऐसे हैं, जो संवैधानिक महत्व के हैं तथा उन्हें संविधान पीठ को ही देखने की जरूरत है। न्यायमूर्ति बीआर गवई तथा न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी भी पीठ का हिस्सा हैं। पीठ ने कहा, ‘‘ये व्यापक मुद्दे हैं, जिन पर विस्तार से विचार करने की जरुरत है। हम इसमें न्याय मित्र की मदद ले सकते हैं और मामले पर एक उपयुक्त पीठ विचार कर सकती है।’’ 

PNB धोखाधड़ी मामला: नीरव मोदी की पत्नी के खिलाफ इंटरपोल का गिरफ्तारी वारंट

अडाणी ग्रुप खरीद सकता है मुंबई एयरपोर्ट की 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी

वीडियो कॉन्फ्रेस के माध्यम से हुई सुनवाई में पीठ ने कहा कि यह मामला काफी समय से लंबित है, इसे 10 सितंबर को एक उपयुक्त पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया जाए। 2 सितंबर को सेवानिवृत्त होने जा रहे न्यायमूर्ति मिश्रा ने कहा कि इस मामले को देखने के लिए वक्त चाहिए, इसलिए इसे ‘‘एक उपयुक्त पीठ को सौंपते हैं’’। 

प्रशांत भूषण मामला - माफी मांगने में क्या गलत है, क्या यह बहुत बुरा शब्द है : सुप्रीम कोर्ट

 

 

 

 

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...


 

comments

.
.
.
.
.