Friday, Jan 28, 2022
-->
Supreme Court to hear on adjournment of loan EMI adjournment due to Corona rkdsnt

कोरोना महामारी के कारण घोषित लोन स्थगन मामले पर सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

  • Updated on 10/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण घोषित छह महीने के ऋण स्थगन से संबंधित मुद्दों पर वह कल सुनवाई करेगा। जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस एम आर शाह की पीठ के समक्ष यह मामला सुनवाई के लिये आया तो उसने कहा कि इस पर बुधवार को विचार किया जायेगा। शीर्ष अदालत 27 मार्च को रिजर्व बैंक द्वारा जारी अधिसूचना के ऋण स्थगन की अवधि के दौरान कर्ज की राशि पर ब्याज वसूलने के हिस्से को अवैध घोषित करने सहित कई मुद्दों को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। 

यूपी विधानसभा के आगे महिला ने खुद को किया आग के हवाले, पुलिस के हाथ-पांव फूले

न्यायालय ने पांच अक्टूबर को केन्द्र और रिजर्व बैंक से कहा कि वे कोविड-19 की वजह से विभिन्न क्षेत्रों पर पड़े दबाव के मद्देनजर कर्ज पुनर्गठन के बारे में के वी कामत समिति की सिफारिशों और कर्ज की किस्त स्थगन के मुद्दे पर उनके द्वारा जारी अधिसूचनाएं और परिपत्र उसके समक्ष पेश करने का निर्देश दिया था। 

इसके बाद, रिजर्व बैंक ने 10 अक्टूबर को न्यायालय में दायर हलफनामे में कहा था कि छह महीने की अवधि से आगे किस्त स्थगन को बढ़ाने से ‘‘समग्र ऋण अनुशासन के खत्म होने’’ की स्थिति बन सकती है और इस वजह से अर्थव्यवस्था में ऋण निर्माण की प्रक्रिया पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। केन्द्र ने भी अलग से हलफनामा दाखिल किया था। 

किसानों के विरोध प्रदर्शन में केजरीवाल ने मोदी सरकार, अकाली दल को लिया आड़े हाथ

इस हलफनामे में केन्द्र कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अब तक घोषित किए जा चुके राजकोषीय राहत उपायों से आगे बढ़कर किसी भी घोषणा से अर्थव्यवस्था को ‘‘नुकसान’’ पहुंच सकता है और हो सकता है कि बैंक इन ‘‘अपरिहार्य वित्तीय बाधाओं’’ का सामना न कर सकें। रिजर्व बैंक ने 27 मार्च को जारी परिपत्र में कर्जदारों को एक मार्च से 31 मई, 2020 के दौरान ऋण की अदायगी के स्थगन की अनुमति को दी थी। लेकिन बाद में इस अवधि को इस साल 31 अगस्त तक के लिये बढ़ा दिया गया था। गौरतलब है कि केंद्र सरकार पहले ही ऋण की किस्त स्थगन सुविधा लेने वाले दो करोड़ रुपये तक के कर्जदारों के चक्रवृद्धि ब्याज को माफ करने का फैसला कर चुकी है।

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.