Friday, Jul 01, 2022
-->
Supreme Court wants to know Center stand on PIL for development of Judicial Vista rkdsnt

न्यायिक विस्टा के विकास की जनहित याचिका पर केंद्र का रुख जानना चाहता है सुप्रीम कोर्ट

  • Updated on 4/25/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कहा कि वह राष्ट्रीय राजधानी में न्यायपालिका और बार की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए उसके परिसर के पास एक ‘न्यायिक विस्टा’ के विकास के अनुरोध वाली जनहित याचिका पर केंद्र सरकार का रुख जानना चाहता है। न्यायमूर्ति विनीत सरण और न्यायमूर्ति जे के माहेश्वरी की पीठ ने पूछा कि क्या सेंट्रल विस्टा की तर्ज पर न्यायिक विस्टा के बारे में सोचा जा सकता है? 

नफरती भाषण: दिल्ली पुलिस के हलफनामे से नाखुश सुप्रीम कोर्ट 

सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना राजधानी के लुटियन्स जोन में संसद, केंद्र सरकार के अनेक कार्यालयों और अन्य महत्वपूर्ण भवनों के पुनरुद्धार की योजना है।      पीठ ने कहा, ‘‘हम कोई निर्देश नहीं दे रहे कि आप यह कीजिए, यह मत कीजिए। लेकिन हम केवल सरकार का रुख जानना चाहते हैं। कल सॉलिसीटर उपस्थित रहें।’’ 

नफरत फैलने वाले भाषण के मामले में बजरंग मुनि को मिली जमानत 

पीठ ने आठ मार्च को बार अधिकारी अद्र्धेंदुमौलि कुमार प्रसाद की जनहित याचिका पर शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री और केंद्र का रुख जानना चाहा था। प्रसाद ने राष्ट्रीय राजधानी में अधीनस्थ अदालतों, न्यायाधिकरणों, दिल्ली उच्च न्यायालय और बार समेत सभी अदालतों की न्यायिक अवसंरचना की बढ़ती जरूरत को पूरा करने के लिए शीर्ष अदालत के परिसरों के पास एक ‘न्यायिक विस्टा’ के विकास का अनुरोध किया था। 

कानून-व्यवस्था के ध्वस्त हो जाने का प्रतीक है बुलडोजर का इस्तेमाल : चिदंबरम 

जनहित याचिका में अनुरोध किया गया है कि केंद्रीय विधि एवं न्याय मंत्रालय और आवास तथा शहरी मामलों के मंत्रालय को प्रधान न्यायाधीश के प्रशासनिक नियंत्रण में एक केंद्रीय प्राधिकार के गठन का निर्देश दिया जाए जो भारत की समेकित निधि से वित्तपोषित हो और न्यायिक अवसंरचना की जरूरतों को पूरा करे।

‘जिहादियों’ से निपटने के लिए घर में तीर-कमान रखें: साक्षी महाराज 

  •  

 

comments

.
.
.
.
.