Saturday, Oct 31, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 31

Last Updated: Sat Oct 31 2020 03:22 PM

corona virus

Total Cases

8,139,081

Recovered

7,432,397

Deaths

121,699

  • INDIA8,139,081
  • MAHARASTRA1,672,858
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA820,398
  • TAMIL NADU722,011
  • UTTAR PRADESH480,082
  • KERALA425,123
  • NEW DELHI381,644
  • WEST BENGAL369,671
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA290,116
  • TELANGANA238,632
  • BIHAR215,964
  • ASSAM206,015
  • RAJASTHAN195,213
  • CHHATTISGARH185,306
  • CHANDIGARH183,588
  • GUJARAT172,009
  • MADHYA PRADESH170,690
  • HARYANA165,467
  • PUNJAB133,158
  • JHARKHAND101,287
  • JAMMU & KASHMIR94,330
  • UTTARAKHAND61,915
  • GOA43,416
  • PUDUCHERRY34,908
  • TRIPURA30,660
  • HIMACHAL PRADESH21,577
  • MANIPUR18,272
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,305
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,246
  • MIZORAM2,694
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
supreme court will hear petition against program of sudarshan tv rkdsnt

सुदर्शन टीवी के कार्यक्रम के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में होगी अहम सुनवाई

  • Updated on 9/17/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय (Supreme Court, ) ने बृहस्पतिवार को कहा कि सुदर्शन टीवी के कार्यक्रम (Sudarshan TV program) ‘बिन्दास बोल’ के खिलाफ दायर याचिका पर कल सुनवाई की जायेगी। इस कार्यक्रम के प्रोमो में दावा किया गया था कि सरकारी नौकरियों में मुसलमानों की घुसपैठ की साजिश का बड़ा पर्दाफाश होगा। जस्टिस धनंजय वाई चंद्रचूड, जस्टिस इन्दु मल्होत्रा और जस्टिस के एम जोसेफ की तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष जब यह मामला आया तो याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अनूप जार्ज चौधरी ने कहा कि उन्हें चैनल द्वारा आज ही दाखिल जवाब की प्रति दी गयी है और इसका जवाब देने के लिये उन्हें वक्त चाहिए।

अनिल अंबानी के खिलाफ दिवाला कार्यवाही शुरू करने का SBI की अपील कोर्ट ने ठुकराई

जस्टिस चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने ही 15 सितंबर को सुदर्शन टीवी के इस कार्यक्रम के प्रसारण पर अगले आदेश तक के लिये रोक लगाते हुये कहा था कि प्रसारित कडिय़ों की मंशा पहली नजर में समुदाय को बदनाम करने की लगती है। सुदर्शन टीवी की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान ने पीठ से कहा कि उन्होंने अपना हलफनामा दाखिल कर दिया है। दीवान ने कहा, ‘‘हमारे खिलाफ निषेध आदेश है’’ और ‘‘इतने समय में जवाब देना मुश्किल था।’’ उन्होंने कहा कि ‘‘यह सोमवार को या कल लिया जा सकता है या मुझे आज ही शुरू करने दीजिये।’’ 

कृषि विधेयकों पर अकाली दल ने मोदी सरकार की बढ़ाई मुश्किलें, कौर का इस्तीफा

केन्द्र की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ से कहा कि इस मामले में शुक्रवार को सुनवाई की जा सकती है। जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, ‘‘हम प्रधान न्यायाधीश से अनुरोध कर सकते हैं कि हमें कल बैठने दें।’’ उन्होंने कहा कि संभवत: ऐसा हो जायेगा। हम सवेरे 10.30 पर सुनवाई शुरू करके इसे पूरा कर सकते हैं। सालिसीटर जनरल ने कहा, ‘‘अगर यह मामला सिर्फ सुदर्शन टीवी तक है तो हमें शायद बहुत कुछ नहीं कहना होगा लेकिन यदि व्यापक विषय है तो हम संबोधित करना चाहेंगे।’’ 

कश्मीरी अलगाववादी नेता शब्बीर शाह की पत्नी के खिलाफ ED ने दायर किया आरोप पत्र

वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सुनवाई के दौरान जस्टिस जोसेफ ने कहा कि न्यायालय को अभी तक इसका कोई लिंक या कार्यक्रम की कडिय़ां पेन ड्राइव में नहीं मिली हैं। इस मामले में पेश एक वकील नेकहा कि वह कोर्टमास्टर के पास इन कडिय़ों का ङ्क्षलक भेज देगा। दीवान ने न्यायालय के 15 सितंबर के आदेश से पहले प्रसारित चार कडिय़ों का लिंक नहीं भेजने पर क्षमा याचना की और कहा कि वे यथाशीघ्र इसे न्यायालय के पास भेज देंगे। जब चौधरी ने पीठ से कहा कि न्यायालय के आदेश के बाद सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक द्वारा किये गये ट्वीट को लेकर उनके खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू की जानी चाहिए तो जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, ‘‘अगर उन्होंने (सुरेश चव्हाणके) ने कुछ बेवकूफी भरा कहाहै तो हम इसे नजरअंदाज करेंगे।’’ 

दिल्ली दंगा मामले में विपक्षी दलों के नेता राष्ट्रपति से मिले, पुलिस की भूमिका पर उठाए सवाल

चौधरी ने कहा कि वह इसे सिर्फ न्यायालय के संज्ञान में लाना चाहते थे। भारतीय प्रेस परिषद और नेशनल ब्राडकास्टर्स एसोसिएशन की ओर से पेश अधिवक्ताओं ने कहा कि वे भी इस मामले से जुड़े व्यापक मुद्दे पर न्यायालय को संबोधित करना चाहेंगे। न्यायालय ने भारत को सभ्यताओं, संस्कृतियों,धर्मो और भाषाओं वाला देश बताते हुये 15 सितंबर को कहा था कि किसी भी धार्मिक समुदाय को बदनाम करने के प्रयास को सांविधानिक मूल्यों के संरक्षक के रूप में यह न्यायालय बहुत ही गंभीरता से लेगी और सांविधानिक मूल्यों को लागू कराना इस न्यायालय का कर्तव्य है। 

पीठ ने विशेष रूप से इलेक्ट्रानिक मीडिया को स्वत: नियंत्रण के काम में मदद के लिये गैर राजनीतिक प्रबुद्ध नागरिकों या पूर्व न्यायाधीशों की समिति गठत करने का सुझाव दिया था। पीठ ने कहा था, ‘‘हमारी राय है कि हम पांच प्रबुद्ध नागरिकों की एक समिति गठित कर सकते हैं जो इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिये कतिपय मानक तैयार करेगी। हम राजनीतिक विभाजनकारी प्रकृति की नहीं चाहते और हमें ऐसे सदस्य चाहिये, जिनकी प्रतिष्ठा हो।’’ केन्द्र ने इस मामले में हलफमाना दाखिल किया है और कहा है कि अगर न्यायालय मीडिया नियमन के बारे में निर्णण करता है तो यह कवायद डिजीटल मीडिया के मामले में पहले की जानी चाहिए क्योंकि इसकी पहुंच ज्यादा तेज है और व्हाट्सऐप , ट्विटर और फेसबुक जैसे ऐप की वजह से सचनाएं तेजी से प्रसारित होती हैं। 

सरकार ने न्यायालय से कहा कि इलेक्ट्रानिक मीडिया और प्रिंट मीडिया के बारे में पहले से ही पर्याप्त कानून और न्यायिक फैसले हैं। सुदर्शन टीवी ने भी अलग से अपना हलफनामा दाखिल किया है और इसमें दावा किया है कि उसकी किसी भी समुदाय या व्यक्ति के खिलाफ कोई दुर्भावना नहीं है और यह कार्यक्रम राष्ट्रीय हित से जुड़ा है। चैनल का दावा है कि उसने अपने कार्यक्रम में ‘यूपीएससी जेहाद’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया है क्योंकि मुस्लिम अभ्र्यिथयों की कोचिंग वाली संस्थान को विदेशी धन मिला है और यह धन उन लोगों से भी मिला है जो कथित रूप से उग्रवादी समूह को धन देने वाले संगठनों से जुड़े हैं।      

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

comments

.
.
.
.
.