Wednesday, Aug 04, 2021
-->
sushant-singh-rajput-death-mystery-depression-and-bipolar-disorder-truth-prsgnt

क्या वाकई बाइपोलर डिसऑर्डर के शिकार थे सुशांत सिंह राजपूत? जानिए क्या है सच...

  • Updated on 8/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुशांत सिंह राजपूत के मामले में ये बात लगातार कही जा रही है कि सुशांत बाइपोलर डिसऑर्डर के शिकार थे और उनकी दवाएं भी चल रही थीं हालंकि सुशांत के करीबियों का कहना है कि सुशांत ने दवाएं लेना बंद कर दी थीं।

लेकिन इस बीमारी को लेकर अभी तक सुशांत के करीबियों ने और उन्हें जानने वालों ने ये नहीं बताया है कि सुशांत में बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षण दिखते थे या नहीं! इसलिए इस बात पर शंका भी जताई जा रही है कि सुशांत को सच में ऐसी कोई बीमारी थी या नहीं? आईये जानते हैं कि बाइपोलर डिसऑर्डर होता क्या है और क्या सुशांत सच में इससे ग्रस्त थे?

महाराष्ट्र के पूर्व CM ने लगाए सनसनीखेज आरोप- दिशा को रेप करके मारा गया, सुशांत की भी हुई है हत्‍या

बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है
डॉक्टर्स का कहना है कि बाइपोलर डिसऑर्डर कोई एक बीमारी नहीं है बल्कि दो अलग-अलग बिमारियों का एक कॉम्बिनेशन है। बाइपोलर डिसऑर्डर में डिप्रेशन और मेनिया नामक दो मानसिक अवस्थाएं शामिल होती हैं। जिस व्यक्ति में इन दो बिमारियों के लक्षण देखने को मिलते हैं उन्हें बाइपोलर डिसऑर्डर की शिकायत होती है। खास बात ये है कि दोनों ही अवस्थाएं एक दूसरे के विपरीत होती हैं।

सुशांत सिंह केस में अब ड्राइवर ने बताई सच्चाई, कहा- मुंबई पुलिस ने पहले ही....

मेनिया और डिप्रेशन में अंतर
डिप्रेशन का व्यक्ति उदासी, निराशाजनक बातें और दुनिया से मोह खत्म हो जाना जैसी बातें करता है। उसे लगता है कि दुनिया में उसके लिए कुछ नही बचा है और खुद को अकेला और असहाय समझता है। जबकि मेनिया का मरीज अतिउत्साही होता है। बड़ी-बड़ी बातें करता है उसे लगता है वो राजा है और दुनिया उसकी मुट्ठी में हैं। यानी दोनों ही अवस्थाएं बिल्कुल अलग होती है।

वहीँ, डॉक्टर्स का कहना है कि दोनों अवस्थाएं कभी भी एक साथ नहीं होती हैं बल्कि दोनों बीमारियां एक-एक महीने के एपिसोड पर सामने आती हैं। दोनों कभी भी एक साथ सामने नहीं आती।

जब Sushant ने बहन को कहा मुझे रिया के चंगुल से बचा लो, WhatsApp chat हुई वायरल

सुशांत के मामले में क्या है हालात
वहीँ, सुशांत सिंह राजपूत के केस में उनके फैंस और कुछ करीबी लोगों का मानना है कि वो मेनिया के शिकार नहीं थे क्योंकि सुशांत में कोई भी लक्षण मेनिया के नहीं दिखाई देते थे। जैसे- हाई एनर्जी फील करना, बड़ी-बड़ी बातें करना, रेस्टलेस रहना, नींद कम आना, मूड हाई रहना, सुपीरियर दिखाना। या फिर ज्यादा खर्च करना, अपने अतीत को याद करना, ज्यादा घूमना-फिरना।

सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील ने लगाए आरोप- सबूतों को नष्ट कर देना चाहती है मुंबई पुलिस

तो क्या सुशांत बीमार नहीं थे?
इस बारे में अभी तक कुछ कहा नहीं जा सकता क्योंकि इसको लेकर अभी कोई क्लियर या डॉक्टर की तरफ से पुख्ता रिपोर्ट नहीं मिली है। हालांकि सुशांत दवाएं लेते थे ये उनकी थेरेपिस्ट ने बताया लेकिन क्या ये सब सही है इस बारे में सुशांत के फैंस विश्वास नहीं कर पा रहे हैं।

comments

.
.
.
.
.