Tuesday, Aug 16, 2022
-->
Suspended DSP of Jammu and Kashmir Davinder Singh filed petition in Delhi court rkdsnt

जम्मू कश्मीर के निलंबित DSP दविंदर सिंह ने दिल्ली में कोर्ट से लगाई गुहार

  • Updated on 6/10/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू कश्मीर के निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह ने जमानत के लिए दिल्ली की अदालत में याचिका दायर की। जिस पर आज भी सुनवाई हो रही है। हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकवादियों को एक वाहन से ले जाते वक्त दविंदर को गिरफ्तार किया गया था। सिंह और मामले में 2 अन्य आरोपी इरफान शफी मीर और सैयद नवीद मुश्ताक ने याचिकाएं दायर कर दावा किया है कि आगे हिरासत में रखकर उनसे पूछताछ की जरूरत नहीं है। 

अनामिका शुक्ला ने शैक्षिक प्रमाणपत्रों के दुरुपयोग का लगाया आरोप

तिहाड़ जेल में बंद आरोपियों की ओर से पेश वकील एम एस खान ने अदालत को बताया कि उनके मुवक्किलों को आगे हिरासत में रखने से कोई भी मकसद पूरा नहीं हो पाएगा। याचिका में कहा गया है कि सिंह, मीर और मुश्ताक को क्रमश: 14,19 और 27 मार्च को गिरफ्तार किया गया था और जांच के मकसद से आगे उन्हें और हिरासत में रखने का कोई मतलब नहीं है। 

योगी सरकार ने किया यूपी की नौकरशाही में बड़ा उलट-फेर

खान ने याचिका में कहा है, ‘‘आरोपियों को मामले में गलत तरीके से फंसाया गया । ऐसे कोई साक्ष्य नहीं हैं जिससे साबित हो कि उन्होंने देश की एकता, अखंडता और संप्रभुता को नुकसान पहुंचाने के मकसद से कोई साजिश की। इस बात के भी कोई सबूत नहीं है कि आरोपियों ने आतंकी हमले की कोई साजिश रची।’’ याचिका में कहा गया कि उसके खिलाफ जो आरोप लगाए गए हैं, वो किसी साक्ष्य पर आधारित नहीं है। 

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज बाथरूम में फिसले, जांघ की हड्डी टूटी

सिंह को इस साल जनवरी में जम्मू कश्मीर पुलिस से सस्पेंड कर दिया गया था। स्पेशल सेल ने जम्मू कश्मीर में हीरा नगर जेल से उसे दिल्ली लाया था। दिल्ली और देश के अन्य हिस्से में आतंकी हमले की साजिश रचने से जुड़े मामले में उसे गिरफ्तार किया गया था। पुलिस के मुताबिक विभिन्न इंटरनेट मंच के जरिए अन्य आरोपियों और हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों से उसकी बातचीत होती थी। 

सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को सहायक शिक्षकों के 37,339 पदों को भरने से रोका

इससे पहले पुलिस ने अदालत को बताया था कि मुश्ताक और अन्य आरोपियों ने दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों को दहलाने तथा सुरक्षा प्राप्त किसी व्यक्ति की हत्या के लिए साजिश रची थी। पुलिस ने कहा कि हिज्बुल मुजाहिद्दीन के शोपियां जिले का कमांडर मुश्ताक इंटरनेट के विभिन्न मंच के जरिए अन्य आरोपियों और आतंकियों से संपर्क में था। दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी। प्राथमिकी में कहा गया कि जम्मू कश्मीर और पंजाब के युवाओं को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। 

जम्मू कश्मीर में 4G सर्विस बहाली मामले में SC में अवमानना याचिका दायर

FIR में माफिया ‘डी कंपनी’ और छोटा शकील का भी जिक्र किया गया। प्राथमिकी के अनुसार दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल को सूचना मिली थी कि ‘डी कंपनी’ पंजाब में खालिस्तानी समर्थक आतंकी संगठनों को वित्तीय सहायता कर रहा है। दविंदर सिंह को उसी प्राथमिकी के तहत हिरासत में लिया गया था। पुलिस ने कहा था कि प्राथमिकी में सिंह का नाम नहीं है, लेकिन स्पेशल सेल के पास कुछ गोपनीय सूचना हैं, जिसके आधार पर जांच की जाएगी और उससे पूछताछ की जाएगी। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.