Wednesday, Dec 08, 2021
-->
talks between rajnath austin india us pledge to increase strategic cooperation prshnt

राजनाथ- ऑस्टिन वार्ता में भारत, अमेरिका रणनीतिक सहयोग बढ़ाने का लिया संकल्प

  • Updated on 3/20/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत (India) और अमेरिका (America) ने सेनाओं के बीच आपसी भागीदारी, सूचना साझा करने और साजो-सामान संबंधी सहयोग समेत वैश्विक रक्षा सहयोग को आगे बढ़ाने तथा एक मुक्त, खुले एवं समावेशी हिंद-प्रशांत के लिए काम करने का शनिवार को संकल्प लिया। अमेरिका के रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन से मुलाकात के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि दोनों पक्षों ने भारतीय सेना और अमेरिका की हिंद-प्रशांत कमान, मध्य कमान और अफ्रीका कमान के बीच सहयोग बढ़ाने पर सहमति जताई।      

भ्रष्टाचार के खिलाफ सीबीआई ने लिया एक्शन, देशभर में 100 ठिकानों पर मारे छापे

पूरी क्षमता के साथ आगे बढ़ाने के लिए संकल्पबद्ध
सिंह ने मीडिया में जारी अपने बयान में कहा, मुझे यह सूचित करते हुए खुशी हो रही है कि मेरी (अमेरिका के) रक्षा मंत्री ऑस्टिन और उनके प्रतिनिधिमंडल के साथ समग्र और सार्थक बातचीत हुई। हम भारत-अमेरिका वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को पूरी क्षमता के साथ आगे बढ़ाने के लिए संकल्पबद्ध हैं। उन्होंने अमेरिका और भारत के बीच रक्षा संबंधों से जुड़े मूलभूत समझौतों का जिक्र करते हुए कहा कि दोनों पक्षों ने आपसी हित के लिए एलईएमओए (साजो-सामान के आदान-प्रदान संबंधी समझौते), सीओएमसीएएसए (संचार संगतता और सुरक्षा समझौता) और बीईसीए (बुनियादी विनिमय और सहयोग समझौते) जैसे समझौतों को पूरी दक्षता के साथ लागू करने के लिए आवश्यक कदमों पर वार्ता की।

ओवैसी को बंगाल में मिला झटका, प्रदेश प्रमुख ने इस्तीफा देकर ममता का किया समर्थन

खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र का मजबूत केंद्र करार
सिंह ने कहा कि भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के नेताओं में हाल हुए क्वाड शिखर सम्मेलन में मुक्त, खुले एवं समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र को बरकरार रखने के संकल्प पर दिया गया। इस बीच, ऑस्टिन ने अपने बयान में भारत के साथ समग्र एवं प्रगतिशील रक्षा साझेदारी को लेकर प्रतिबद्धता की पुन: पुष्टि की और भारत को क्षेत्र के लिए अमेरिकी रुख का मुख्य स्तम्भ बताया। उन्होंने भारत और अमेरिका के संबंधों को मुक्त एवं खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र का मजबूत केंद्र करार दिया। ऑस्टिन ने कहा, मेरे और सिंह के बीच काफी सार्थक वार्ता हुई, मैं हमारे सहयोगियों एवं साझेदारों के प्रति हमारी मजबूत प्रतिबद्धता को लेकर बाइडन-हैरिस प्रशासन का संदेश पहुंचाना चाहता था। उन्होंने कहा, भारत आज तेजी से बदल रहे अंतरराष्ट्रीय परि²श्य में एक बहुत महत्वपूर्ण साझेदार है।

CM ममता को शुभेंदु का जबाव, कहा- भारत माता के खिलाफ बोलना है PM के खिलाफ बोलना

ऑस्टिन की नरेंद्र मोदी से मुलाकात
बता दें कि बाइडेन प्रशासन के किसी शीर्ष मंत्री की प्रथम यात्रा के तहत अमरीकी रक्षा मंत्री लॉयड जे. ऑस्टिन तीन दिनों के दौरे पर शुक्रवार को भारत पहुंचे। उनके आने का उद्देश्य हिंद-प्रशांत सहित क्षेत्र में चीन की बढ़ती सैन्य आक्रमकता के मद्देनजर द्विपक्षीय रक्षा एवं सुरक्षा संबंधों को और मजबूत करना है। ऑस्टिन ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और हिंद-प्रशांत क्षेत्र और उससे इतर शांति, स्थिरता और समृद्धि के लिए भारत के साथ रणनीतिक साझेदारी को और बढ़ाने के लिए अपने देश की ओर से मजबूत इच्छा व्यक्त की। 

कुरान की 26 आयतें हटाने की याचिका दाखिल करने वाले रिजवी के खिलाफ जामा मस्जिद पर प्रदर्शन

भारत-अमेरिका संबंधों में द्विपक्षीय रक्षा सहयोग की भूमिका
प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक बयान में कहा कि बैठक के दौरान मोदी ने दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी के लिए अपने ²ष्टिकोण को रेखांकित किया और भारत-अमेरिका संबंधों में द्विपक्षीय रक्षा सहयोग की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया। ऑस्टिन की प्रथम विदेश यात्रा के दौरान तीन देशों के दौरे में भारत तीसरा पड़ाव स्थल है। उनकी इस यात्रा को अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन के अपने करीबी सहयोगियों और क्षेत्र में साझेदारों के साथ मजबूत प्रतिबद्धता के तौर पर देखा जा रहा है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.