Wednesday, Jan 19, 2022
-->
tarn taran blast case plot to kill akali dal president sukhbir badal

बड़ा खुलासा: तरनतारन ब्लास्ट में पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल को उड़ाने का था प्लान

  • Updated on 10/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गांव पंडोरी गोला (Pandori Gola) में 4 सितंबर की रात हुए ब्लास्ट में 2 लोगों की मौत, एक जख्मी हो गया था। इस मामले में 8 आरोपियों को काबू कर जांच एनआईए टीम (NIA Team) कर रही है। उधर एनआईए टीम ने काबू आरोपियों के पारिवारिक मेंबरों को मोहाली दफ्तर में बुलाकर बयान लेने शुरू कर दिए हैं। इन आरोपियों से पकड़े 8 मोबाइलों की जांच चंडीगढ़ साइबर सेल द्वारा करने के बाद पता चलेगा कि सुखबीर सिंह बादल को निशाना बनाने में और कौन-कौन शामिल था।

पंजाबः तरनतारन में PAK ने GPS लगे ड्रोन से भेजे AK-47, 26/11 जैसे हमले की थी साजिश

चंडीगढ़ से छपने वाली एक अंग्रेजी अखबार के हवाले से पूछताछ में मलकीत सिंह उर्फ शेरा पुत्र दिलबाग सिंह निवासी कोटला गुज्जारा बाण मजीठा जिला अमृतसर ने माना है कि उसका साथी बिक्रम सिंह पंजवड़ साल 2015 में हुए बरगाड़ी मामले का आरोपी पूर्व डिप्टी सी.एम. और शिरोमणि अकाली दल प्रधान सुखबीर सिंह बादल को भी ठहराता था। इसके तहत शेरा ने उसके साथ तब सुखबीर को बम से उड़ाना था जब 2016 में प्रकाश पर्व पर सुखबीर बादल परिवार सहित श्री हरिमंदिर साहिब पहुंचते, लेकिन उस समय कड़े सुरक्षा प्रबंधों को देख ब्रिकम ने ब्लास्ट की योजना त्याग दी।

शेरा ने यह भी माना कि उसने बिक्रम को बम बनाने की जानकारी भी दी थी और उसका 2016 में सुखबीर पर हमला करने से पहले रईया-ब्यास ङ्क्षलक रोड पर खाली जगह में टैस्ट किया गया था। इस समय बिक्रम सिंह पंजवड़ आस्ट्रिया में अपने अन्य साथियों के साथ पंजाब का माहौल खराब करने की योजनाएं बना रहा है। 

पंजाब के तरनतारन में दम घुटने से चार कामगारों की मौत

जानकारी के अनुसार 4 सितंबर के ब्लास्ट में तरनतारन (Tarn Taran) के हरप्रीत सिंह (19) पुत्र कुलबीर सिंह निवासी बछाड़े और बिक्कर सिंह पुत्र सविंदर सिंह निवासी कद्दगिल कलां की मौके पर मौत हो गई थी, जबकि गुरजंट सिंह पुत्र रेशम सिंह निवासी बछाड़े गंभीर जख्मी हो गया था जो इस समय देख नहीं सकता। थाना सदर तरनतारन पुलिस ने ब्लास्ट वाली जगह से कुछ दूर हरजीत सिंह पुत्र हरदेव सिंह सहित अमृतपाल सिंह उर्फ अमृत जो जख्मी गुरजंट सिंह का चचेरा भाई है, चन्नदीप सिंह, मनप्रीत सिंह मन्न, मलकीत सिंह उर्फ शेर सिंह, अमरजीत सिंह, मानदीप सिंह उर्फ मस्सा और जख्मी गुरजंट सिंह को मोहाली की अदालत में पेश कर हरजीत सिंह, गुरजंट सिंह और अमृत सिंह का रिमांड लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। 

पंजाब ड्रोन मामला: NIA करेगी मामले की जांच, गृह मंत्रालय ने दी मंजूरी

हरजीत के परिवार को मोहाली बुलाकर लिए बयान
उधर एन.आई.ए. ने हरजीत सिंह के पिता हरदेव सिंह, माता मनजीत कौर, पत्नी पवित्र कौर, बहन शरनजीत कौर को बयान दर्ज करवाने के लिए मोहाली दफ्तर बुलाया था। ऐसे ही अब एन.आई.ए. टीम बारी-बारी से अमृतपाल सिंह और गुरजंट सिंह के पारिवारिक मैंबरों को दफ्तर बुला रही है, ताकि इनके बयान लेने के बाद क्रास चैक किया जा सके कि कौन सच बोल रहा है।

पंजाब में PAK की नापाक कोशिश, ड्रोन के जरिए गिराए हथियार, सेना रेड अलर्ट पर

बरामद 8 मोबाइलों की साइबर सेल कर रहा जांच
सूत्रों से यह भी पता चला है कि इन 8 आरोपियों के पास से बरामद 8 मोबाइलों की चंडीगढ़ स्थित साइबर सेल की ओर से बारीकी से जांच की जा रही है। इन मोबाइलों के जरिए पाकिस्तान सहित अन्य देशों में बैठे आतंकवादी संगठन या फिर रेड आर्टीकल्स के साथ किसके कैसे संबंध थे इसका पता भी लगाने की कोशिश की जा रही है। इसी के साथ इन मोबाइलों में बैंक संबंधी एप्लीकेशनों से यह पता लगाया जाएगा कि इनको विदेशों से खालिस्तान के लिए कितनी फंडिंग हो चुकी है। दूसरी ओर एन.आई.ए. ने आज तरनतारन के अलग-अलग थानों से ब्लास्ट और आतंकवादी मामले में कुछ और रिकार्ड कब्जे में लिए हैं। आने वाले दिनों में टीम कुछ और लोगों को भी जांच के लिए हिरासत में ले सकती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.