TC: High court: Private schools can not stop TC on the bases of fees

निजी स्कूल फीस की बिनाह पर नहीं रोक सकते टीसी: हाईकोर्ट

  • Updated on 7/12/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल।  दिल्ली हाईकोर्ट (High Court) की चीफ जस्टिस बेंच ने वीरवार को कहा कि निजी स्कूलों (Private schools) को फीस बकाया रह जाने पर छात्र का स्थानांतरण प्रमाण पत्र (टीसी) (TC) रोक लेने का अधिकार नहीं है।

पाक में ट्रेन व मालगाड़ी की भिड़ंत, 21 मरे

कोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई में अशोक विहार स्थित कुलाची हंसराज मॉडल स्कूल को कक्षा 3 के छात्र 9 वर्षीय कार्तिक और प्री-प्राइमरी के छात्र प्रियांश को एक हफ्ते में स्थानांतरण प्रमाण पत्र देने का आदेश किया है। 

'54 स्थानों पर अवैध रूप से बने मस्जिद-कब्रिस्तान', शाही इमाम बोले सभी धार्मिक स्थलों की हो जांच

यह फैसला कोर्ट ने कुलाची हंसराज मॉडल स्कूल को कार्तिक  और प्रियांश की बकाया फीस 1 लाख 331 रुपए फीस न देने पर स्थानांतरण प्रमाण पत्र रोक लेने के बाद दायर की गई याचिका पर दिया है जिसमें कहा गया था कि दोनों बच्चे किसी अन्य स्कूल में दाखिला नहीं ले पा रहे हैं क्योंकि निजी स्कूल ने उनके प्रमाण पत्र रोक लिए हैं। 

मानहानि मामले में अहमदाबाद कोर्ट में राहुल गांधी पेशी आज, ये हैं आरोप

मामले में कोर्ट द्वारा न्यायमित्र नियुक्त अधिवक्ता अशोक अग्रवाल ने तर्क दिया कि दिल्ली स्कूल शिक्षा नियम, 1973 के नियम 167 के तहत स्कूल छात्र द्वारा फीस भुगतान न किए जाने की स्थिति में छात्र का नाम स्कूल से काट सकता है लेकिन किसी छात्र द्वारा फीस न दिए जाने के संदर्भ में स्कूल छात्र को स्थानांतरण प्रमाण पत्र देने से मना नहीं कर सकता।
अधिवक्ता के तर्क पर अदालत ने कहा कि दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम और नियमों के तहत एक निजी स्कूल बकाया फीस का भुगतान न करने पर छात्रों का स्थानांतरण प्रमाण पत्र जारी करने से मना नहीं कर सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.