Wednesday, Nov 13, 2019
technologically possible to convert stubble into cng arvind kejriwal

अब प्रदूषण कम करने के काम आएगी पराली, CM केजरीवाल को विशेषज्ञों ने दिया ये अनूठा सुझाव

  • Updated on 11/6/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। प्रदूषण (Pollution) की मार झेल रही दिल्ली (Delhi) के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने एक अच्छी खबर दी। जिस पराली (Stubble) को जलाने से दिल्ली की हवा दम घोटू हो गई थी, वो पराली ही अब प्रदूषण (Pollution) कम करने के काम आएगी।  

सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा है कि मैंने आज कई विशेषज्ञों से मुलाकात की। पराली को सीएनजी में बदलना तकनीकी रूप से और व्यावसायिक रूप से संभव है। यह किसानों को रोजगार और अतिरिक्त आय प्रदान करेगा। इसके साथ ही प्रदूषण की हमारी वार्षिक समस्या का समाधान करेगा। हालांकि, इस पर काम करने के लिए सभी केंद्र और राज्य सरकारों को एक साथ आने की आवश्यकता है। 

बढ़ते प्रदूषण को लेकर NGT सख्त, कहा- प्रदूषण फैलाने वाली हर गतिविधि हो बंद

दिल्ली प्रदूषण का बड़ा कारण है पराली जलाना
बता दें कि दिल्ली में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण का बड़ा कारण पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने को माना जा रहा है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने के कारण नवंबर के महीने में दिल्ली में प्रदूषण बढ़ जाता है। इसके लिए केजरीवाल सरकार कई बार आवाज भी उठा चुकी है। वहीं प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली सरकार ने अपने स्तर पर भी कई प्रयास किए हैं। फिर चाहे वो ऑड-इवन नियम लागू करना हो या दिवाली पर लेजर शो का आयोजन करना। 

दिल्ली में रिकॉर्ड तोड़ प्रदूषण, सरकार ने जारी की एडवाइजरी

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी सरकार को फटकार
दिल्ली और उत्तर भारत के कई हिस्सों में बढ़ रहे प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र और राज्य सरकारों को फटकार लगाई थी। कोर्ट ने कहा था कि अब स्थिति बहुत गंभीर हो चुकी है। केंद्र और दिल्ली सरकार (Delhi Government) के नाते आपने इसको रोकने के लिए क्या करने का सोचा है? वहीं सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) सरकार से भी पराली जलाने (Stubble Burning) पर रोक लगाने को लेकर सवाल किया। 

प्रदूषण को लेकर SC ने दिल्ली के मुख्य सचिव को किया तलब

प्रदूषण इसी प्रकार से बढ़ता रहा तो हम जी नहीं सकेंगे
सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अगर प्रदूषण इसी प्रकार से बढ़ता रहा तो हम लोग जी नहीं सकेंगे। केंद्र और राज्य दोनों को मिलकर इसके लिए कमद उठाने होंगे। अब बहुत हो चुका। दिल्ली का कोई कोना प्रदूषण की मार से अछूता नहीं है। इस बढ़ते प्रदूषण के कारण हम अपनी जिंदगी के महत्वपूर्ण साल खोते जा रहे हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.