Sunday, Sep 24, 2023
-->
tejashwi yadav rjd targeted nitish kumar jdu for making mevalal chaudhary rkdsnt

मेवालाल चौधरी को मंत्री बनाए जाने पर तेजस्वी ने नीतीश पर साधा निशाना

  • Updated on 11/18/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बिहार सरकार में जदयू कोटे से डॉ. मेवालाल चौधरी को मंत्री बनाये जाने को लेकर राजद नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा कि असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में भ्रष्टाचार करने के आरोपी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या उन्हें लूटने की खुली छूट प्रदान की गयी है? तेजस्वी ने ट्वीट किया, ‘‘ भ्रष्टाचार के अनेक मामलों के भगोड़े आरोपी को शिक्षा मंत्री बना दिया। अल्पसंख्यक समुदायों में से किसी को भी मंत्री नहीं बनाया।’’ 

किसानों के विरोध प्रदर्शन के समर्थन में उतरी ट्रेड यूनियंस, राष्ट्रव्यापी हड़ताल का ऐलान

उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में सत्ता संरक्षित अपराधियों की मौज है और रिकॉर्डतोड़ अपराध की बहार है। तेजस्वी ने नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ कुर्सी की $खातिर अपराध, भ्रष्टाचार और साम्प्रदायिकता पर मुख्यमंत्री जी प्रवचन जारी रखेंगे।’’

गुपकर गैंग टिप्पणी पर उमर अब्दुल्ला ने अमित शाह पर किया पलटवार

राजद नेता ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री ने असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति और भवन निर्माण में भ्रष्टाचार के गंभीर मामलों में भारतीय दंड संहित की धारा 409,420,467, 468,471 और 120ब के तहत आरोपी मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या भ्रष्टाचार करने का इनाम एवं लूटने की खुली छूट प्रदान की है?’’

महिला उत्पीड़न को लेकर प्रियंका  गांधी ने फिर साधा योगी पर निशाना 

पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव में तेज बहादुर के नामांकन रद्द होने पर फैसला सुरक्षित

इससे पहले राजद ने आधिकारिक ट््वीट में कहा कि तेजस्वी पर फर्क़ाी केस करवा कर वह इस्तीफ़ा मांग रहे थे और यहां खुद एक भ्रष्टाचारी मेवालाल को मंत्री बना रहे है। गौरतलब है कि जदयू विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी राज्य की तारापुर विधानसभा सीट से निर्वाचित हुये हैं । उन्हें नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। राजनीति में प्रवेश से पहले मेवालाल भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति थे।

अवमानना कार्यवाही के खिलाफ महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी पहुंचे सुप्रीम कोर्ट  

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.