Monday, Mar 01, 2021
-->
telangana lsr student commits suicide upset over financial stress in lockdown pragnt

लॉकडाउन में आर्थिक तंगी के कारण LSR की छात्रा ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिख दी ये बड़ी बात

  • Updated on 11/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए देश में लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) ने लोगों के जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है। वहीं इस बंदी से तंग आकर कई लोगों ने अपनी जान भी दी है। हाल ही में तेलंगाना (Telangana) में लॉकडाउन की वजह से एक छात्रा ने खुदखुशी कर ली।

LSR की छात्रा की खुदकुशी को लेकर राहुल का केंद्र पर हमला, नोटबंदी और लॉकडाउन को बताया जिम्मेदार

आर्थिक तंगी के चलते की खुदकुशी
तेलंगाना से ताल्लुक रखने वाली दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर वुमन की द्वितीय वर्ष की एक छात्रा ने पिछले सप्ताह यानी 2 नवंबर को परिवार की आर्थिक तंगी के चलते कथित तौर पर खुदकुशी कर ली। मृतका की पहचान ऐश्वर्या रेड्डी (19) के रूप में हुई है। ऐश्वर्या बीएससी मैथमेटिक्स की छात्रा थी। मौके से पुलिस को एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। 

UP के उप चुनावों में अखिलेश यादव ने भाजपा पर लगाया धांधली का आरोप

सुसाइड नोट में लिखा ये
पुलिस ने कहा कि ऐश्वर्या ने पिछले हफ्ते तेलंगाना के रंगा रेड्डी जिले के शादनगर में अपने घर में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मौके से पुलिस को एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। सुसाइड नोट में छात्रा ने लिखा है, 'परिवार उसकी पढ़ाई का खर्च नहीं उठा सकता है और वह अपने परिवार पर बोझ नहीं बनना चाहती है। लेकिन अगर वह पढ़ नहीं सकती तो उसे जीने का हक नहीं है।'

फारूक अब्दुल्ला बोले- कांग्रेस अभी भी गुपकर गठबंधन का हिस्सा, साथ लड़ेंगे DDC चुनाव

पुलिस ने बताया कि ऐश्वर्या ने 12वीं कक्षा में 98.5 प्रतिशत स्कोर किया था। उन्होंने बताया कि मृतका ने तेलुगु में एक नोट छोड़ा। जिसमें लिखा है, 'मेरे कारण, मेरा परिवार कई वित्तीय समस्याओं का सामना कर रहा है। मैं अपने परिवार के लिए बोझ हूं। मेरी शिक्षा एक बोझ है। यदि मैं पढ़ाई नहीं कर सकती, तो मैं जीवित नहीं रह सकती।'

बिहार में महागठबंधन की कमान संभाले तेजस्वी यादव का जन्मदिन आज, क्या जनता देगी जीत का तोहफा?

पिता ने बताया कारण
ऐश्वर्या के पिता श्रीनिवास रेड्डी जिले में ही एक मोटरसाइकिल मैकेनिक हैं। पिता का कहना है कि उनकी बेटी आईएएस बनना चाहती थी, लेकिन कोरोना लॉकडाउन के दौरान उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि ऑनलाइन क्लास को आगे बढ़ाने के लिए उसके लिए एक पुराना लैपटॉप ही खरीद सकें।  

भारत के साथ दोस्ती को मजबूत करेंगे जो बाइडेन, हो सकता है उनका 14 साल पुराना ख्वाब पूरा!

घर गिरवी रखकर लिया था लोन
श्रीनिवास रेड्डी ने कहा कि जब ऐश्वर्या को पिछले साल दिल्ली में एडमिशन मिला तो उन्होंने अपने एक घर को 2 लाख रुपए में गिरवी रखकर लोन लिया था। उन्होंने कहा, 'मैं अभी भी किस्त चुका रहा हूं।' रेड्डी ने कहा कि उन्होंने इस मार्च में अपनी एक दुकान खोली। लेकिन लॉकडाउन के दौरान दुकान एक महीने के अंदर ही बंद करनी पड़ी जिसके कारण वित्तीय हालत और खराब हो गए। हालांकि छह महीने बाद दुकान दोबारा खुली लेकिन कारोबार पटरी पर नहीं आ पाया।

अन्वय नाइक केस: 2019 की क्लोजर रिपोर्ट में हुआ खुलासा- सुसाइड के लिए अन्वय को अर्नब ने नहीं उकसाया

छात्रवृत्ति राशि मिलने में हुई देरी
पिता ने कहा, 'ऐश्वर्या कॉलेज बंद होने के बाद फरवरी में घर लौटी थी। अक्टूबर में उसने पूछा कि क्या मैं उसके लिए एक लैपटॉप खरीद सकता हूं क्योंकि उसकी ऑनलाइन क्लास शुरू हो गई थीं और उसे अपने फोन पर उपस्थित होना मुश्किल हो रहा था। उसने कहा कि एक लैपटॉप की जरूरत होगी। मैंने उससे कहा कि कुछ दिन रुक जाओ। उसने फिर पूछा नहीं।' उन्होंने कहा कि ऐश्वर्या को मिलने वाली छात्रवृत्ति राशि में भी देरी हो रही थी। 

उद्धव ठाकरे की चुनौती पर CM योगी का जवाब, कहा- UP में होगी मुंबई से बड़ी 'फिल्म सिटी'

कॉलेज की प्रिंसिपल ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण
एलएसआर के प्रिंसिपल सुमन शर्मा ने कहा कि ऐश्वर्या वित्तीय सहायता के लिए कॉलेज नहीं पहुंची थीं। उन्होंने कहा, 'यह हमारे लिए बहुत बड़ी क्षति है और यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि हम उनकी मदद करने में असमर्थ थे। हालांकि, उसने अपने मुद्दों के साथ कभी भी गणित विभाग या छात्रावास के अधिकारियों से संपर्क नहीं किया। कॉलेज में कई योजनाएं और छात्रवृत्ति हैं, लेकिन उसने कभी सहायता नहीं मांगी। हमारे पास मानसिक स्वास्थ्य सहायता के लिए कई उपाय हैं, लेकिन दुर्भाग्य से वह उन लोगों के लिए नहीं पहुंची।'

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.