Friday, May 20, 2022
-->
The aim of education is to make us more responsible: Dharmendra Pradhan

शिक्षा का उद्देश्य हमें अधिक जिम्मेदार बनाना है : धर्मेद्र प्रधान

  • Updated on 9/5/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (अभातशिप) में शिक्षक दिवस पर आयोजित किए गए पुरस्कार समारोह में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह ने तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र उत्कृष्ट कार्य करने वाले 17 संकाय सदस्यों को अभातशिप विश्वेश्वरैया सर्वश्रेष्ठ शिक्षक पुरस्कार, 3 संकाय सदस्यों को डॉ. प्रीतम सिंह पुरस्कार 2021 सहित 24 छात्र टीमों को छात्र विश्वकर्मा पुरस्कार से पुरस्कृत किया। उन्होंने इस मौके पर चयनित तकनीकी संस्थानों को स्वच्छ एंड स्मार्ट कैंपस अवार्ड 2020 भी प्रदान किया।

राष्ट्रपति कोविंद ने देश भर से 44 शिक्षकों को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया

अभातशिप के उत्कृष्ट शिक्षक छात्रों को दिए पुरस्कार
इस मौके पर प्रधान ने सभी पुरस्कार विजेताओं से बातचीत की और समाज में उनके योगदान की सराहना की। उन्होंने कहा कि इन पुरस्कारों का उद्देश्य मेधावी संकायों को सम्मानित करना और उन्हें वैश्विक स्तर पर उच्च शिक्षा की लगातार बदलती जरूरतों के लिए स्वयं को अध्यतन करने के लिए प्रोत्साहित करना है। इस प्रकार ज्ञान समाज में प्रभावी योगदानकर्ता बन जाना है। उन्होंने कहा कि सदियों से हमारा भाग्य हमारे हाथ में नहीं था पर जब आज हम आजादी के 75 वर्ष पूर्ण कर रहे हैं तो हम महसूस कर सकते हैं कि हमारे पास नया भारत बनाने की इच्छाशक्ति मौजूद है।

शिक्षक दिवस: कोरोना काल में भी पढ़ाई जारी रखने के लिए PM मोदी ने की शिक्षकों की प्रशंसा

एनईपी से शैक्षिक क्षेत्र में आएगा क्रांतिकारी बदलाव 
नई शिक्षा नीति से भारत में शैक्षिक क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। इससे प्रधानमंत्री मोदी के विजन 2047 के अनुसार अगले 25 वर्षों के लिए मार्ग प्रशस्त होगा। शिक्षा का उद्देश्य हमें अधिक जिम्मेदार बनाना है। जिससे हम एक अच्छे वैश्विक नागरिक बन सकें। उन्होंने एआईसीटीई द्वारा शुरू किए गए 4 पुरस्कारों की सराहना की।

संगणक अनुप्रयोग से जीवन विज्ञान का अध्ययन आसान

ऐसे प्रोत्साहन शिक्षकों को ऋुटिहीन शिक्षा प्रदान करने के लिए करेंगे प्रेरित : डॉ. राजकुमार
इस मौके पर शिक्षा रा'य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि इस तरह का प्रोत्साहन विभिन्न शिक्षण समुदायों को प्रभावित करेगा जो उन्हें छात्रों को ऋुटिहीन शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रेरित करेगा। शिक्षा मंत्रालय के सचिव अमित खरे ने कहा कि आज एक विशेष दिन है क्योंकि यह हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जन्म जयंती है। सभी शिक्षकों को शुभकामनाएं। इस मौके पर अभातशिप के अध्यक्ष अनिल डी सहस्त्रबुद्धे, उपाध्यक्ष प्रो. एमपी पूनिया, सदस्य सचिव प्रो. राजीव कुमार ने भी पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी।

comments

.
.
.
.
.