the-capacity-of-hospitals-will-be-increased-by-120-percent

अस्पतालों की क्षमता में होगा इजाफा, 120% तक होगी बढोत्तरी

  • Updated on 9/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के निर्देश पर स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने राष्ट्रीय राजधानी में पब्लिक हेल्थ इंफ्रास्ट्रचर (Infrastructure) के विस्तार से संबंधित दिल्ली सरकार  (Delhi Government) के कार्यक्रमों की स्थिति स्पष्ट करने वाली रिपोर्ट मंगलवार को मुख्यमंत्री को सौंपी। मुख्यमंत्री ने दिल्ली में नए अस्पताल (Hospital) बनाने,मौजूदा अस्पतालों के विस्तार और मौजूदा अस्पतालों में स्पेशलाइज्ड (Specialized) ट्रीटमेंट (Treatment) सुविधाएं जोडऩे से संबंधित स्वास्थ्य विभाग की योजना और इस दिशा में मौजूद संभावनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी मांगी थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली के सरकारी अस्पतालों की क्षमता में 120 फीसदी का इजाफा होगा।

प्रतिभा विकास योजना के तहत अब गरीब बच्चों को मिलेगी मुफ्त कोचिंग

रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली सरकार के 38 अस्पतालों में बेड की मौजूदा क्षमता 11,353 है। इसके अलावा 13,899 बेड की क्षमता को और जोड़ा जा रहा है। अगले छह महीने में 2800 बेड की क्षमता वाले तीन अस्पताल और चालू हो जाएंगे। सरकार को उम्मीद है कि 2023 तक सभी प्रोजेक्ट पूरे हो जाएंगे। सभी नए अस्पताल और मौजूदा अस्पतालों में बन रहे नए ब्लॉक्स चालू हो जाएंगे। 

हर साल 100 एससी छात्र विदेश में पढ़ने जाएंगे- CM केजरीवाल

वातानुकूलित होने ही चाहिए अस्पताल
अत्याधुनिक सुविधाओं वाला द्वारका का इंदिरा गांधी हॉस्पिटल,जिसकी क्षमता 1241 बेड की है,पश्चिमी दिल्ली की सबसे बड़ा अस्पताल होगा। इसके अलावा 772 और 600 बेड की क्षमता वाले दो अस्पताल बुराड़ी और अंबेडकर नगर में बहुत जल्द बनकर तैयार होने वाले हैं। साल 2015 में जब इनमें से कई सारे प्रोजेक्ट्स पर सरकार में विचार चल रहा था तब मुख्यमंत्री की तरफ  से स्वास्थ्य मंत्री (Health Minister) को यह सुनिश्चित करने के स्पष्ट निर्देश दिए गए थे कि सभी अस्पताल हर हाल में पूरी तरह से वातानुकूलित होने ही चाहिए। 

सिसोदिया बोले- जल्दी ही दिल्ली का होगा अपना शिक्षा बोर्ड, करेगा छात्रों की मदद

मुख्यमंत्री के निर्देशों का पालन करते हुए सभी नए अस्पतालों को पूरी तरह से वातानुकूलित बनाया जा रहा है। इसके अलावा मौजूदा अस्पतालों में जरूरी बदलाव करके उन्हें वातानुकूलित बनाया गया है।

हटाया गया प्राइवेट वार्ड का सिस्टम 
आप सरकार दिल्ली के सभी नागरिकों को बेहतरीन और समान स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के सिद्धांत पर काम कर रही है। यहां तक कि जब स्वास्थ्य मंत्री ने मुख्यमंत्री के सामने नए अस्पतालों के निर्माण संबंधी खाका प्रस्तुत किया था तो मुख्यमंत्री ने प्राइवेट रूम्स संबंधी प्रस्तावों को हटाने का निर्देश दिया था। मुख्यमंत्री ने कहा था कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में जो कोई भी अपना इलाज कराना चाहता है,हम उसको समान स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे। अगर कोई वीआईपी स्पेशल ट्रीटमेंट्स चाहता है तो हम उसी क्वॉलिटी का ट्रीटमेंट एक सामान्य मरीज को भी उपलब्ध कराएंगे। 

कॉप अधिवेशन में बोले PM मोदी- 10 साल में 50 लाख हेक्टेयर जमीन को बनाएंगे उपजाऊ

ऐसे बढ़ेगी अस्पतालों की बेड क्षमता
खिचड़ीपुर के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में एक नया मदर एंड चाइल्ड ब्लॉक बनेगा,जिसमें 460 बेड्स होंगे। इसको कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है और टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। चार नए अस्पतालों जो कि सरिता विहार,मादीपुर,हस्तसाल और ज्वालापुरी में बनेंगे के निर्माण से संबंधित रिपोर्ट आने वाले सप्ताह में वित्त व्यय समिति के सामने रखी जाएगी।

#Chandrayaan2 से संपर्क टूटने पर बोले PM मोदी- हौसला कमजोर नहीं पड़ा, मजबूत हुआ

इनके निर्माण का खाका पहले ही तैयार किया जा चुका है। इन अस्पतालों की कुल क्षमता 2200 बेड की होगी। इसके अलावा बिंदापुर और सिरासपुर में 100-100 बेड की क्षमता वाले अस्पताल को मंजूरी दी जा चुकी है और इससे संबंधित टेंडर प्रक्रिया बहुत जल्द शुरू हो जाएगी। हिस्सेदारी दिल्ली सरकार के मौजूदा अस्पतालों में नए ब्लॉक्स बनाने का है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.