the-central-board-of-secondary-education-cbse-has-exam-fees-increased

CBSE बोर्ड ने एग्जाम फीस के साथ-साथ स्थानांतरण शुल्क में भी किया इजाफा

  • Updated on 8/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (Central Board Of Secondary Education) ने 10वीं और 12वीं बोर्ड की फीस को बढ़ा दिया है। अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जनजाति के छात्र-छात्राओं की फीस में 24 गुना से भी ज्यादा बढ़ोत्तरी (Exam Fees Increased) की गई है। वहीं समान्य कैटिगरी के छात्रों के लिए यह फीस को दोगुनी कर दी गई है।

पाकिस्तान को नहीं मिला किसी देश का साथ, इमरान ने लगाई सोशल मीडिया पर मदद की गुहार

बता दें कि अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जनजाति (SC/ST) के छात्र-छात्राओं को पहले एग्जाम के लिए 50 रुपये देने पड़ते थे, लेकिन अब उनकी यह फीस बढ़ाकर 1200 रुपये हो गई है। वहीं समान्य वर्ग (general category) के छात्रों को पहले 750 रूपये देने पड़ते थे लेकिन अब यह फीस बढ़ाकर 1500 रूपये कर दी गई है।

बोर्ड परीक्षा में अतिरिक्त विषय के लिए देने होंगे 300 रुपए शुल्क

अधिकारी ने बताया कि, 12वीं की बोर्ड परीक्षा में अतिरिक्त विषय के लिए एससी/एसटी छात्रों को 300 रुपए अतिरिक्त देने होंगे। पहले अतिरिक्त विषय के लिए इन वर्गों के छात्रों से कोई शुल्क नहीं लिया जाता था। सामान्य वर्ग के छात्रों को भी अतिरिक्त विषय के लिए 150 रुपए के बजाय अब 300 रुपए का शुल्क देना होगा।

स्थानांतरण शुल्क में भी हुई है बढ़ोतरी

अधिकारी (Officer) ने कहा, शत प्रतिशत दृष्टि बाधित छात्रों को सीबीएसई परीक्षा (CBSE Exam) शुल्क से छूट दी गई है। हालांकि, जो छात्र अंतिम तारीख से पहले नई दर के अनुसार शुल्क जमा नहीं करेंगे उनका पंजीकरण नहीं होगा और उन्हें 2019-20 की परीक्षा में बैठने की इजाजत नहीं होगी। स्थानांतरण शुल्क (माइग्रेशन फीस) (Migration Fees) भी 150 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए कर दिया गया है।

विदेश स्थित सीबीएसई के स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों को देने होंगे 10 हजार रुपये

विदेश स्थित सीबीएसई के स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों को अब पांच विषयों के बोर्ड परीक्षा शुल्क के रूप में 10 हजार रुपये देने होंगे। पहले यह राशि पांच हजार रुपए थी। 12वीं की बोर्ड परीक्षा में अतिरिक्त विषय के लिए इस श्रेणी के छात्रों को अब 1000 रुपए के बजाय 2000 रुपए का शुल्क देना होगा।

comments

.
.
.
.
.