Wednesday, Jul 24, 2019

सीएम डैश बोर्ड के जरिए मुख्य सचिव ने की विभागीय प्रगति की समीक्षा

  • Updated on 7/12/2019

देहरादून/ब्यूरो: मुख्यमंत्री डैश बोर्ड का इस्तेमाल बढ़ा है। विभिन्न सरकारी महकमे विभागीय काम काज से संबंधित जानकारी इस पर अपलोड कर रहे हैं। परंतु टारगेट तय करने और उसे हासिल करने संबंधी आंकड़ों के लिहाज से अभी बहुत कुछ किया जाना है। मुख्य सचिव ने डैशबोर्ड के प्रचलन बढ़ने पर संतोष जताया है साथ में आउटकम पर भी फोकस करने को कहा है।

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने वीरवार को सचिवालय में सीएम मॉनिटरिंग डैशबोर्ड के अन्तर्गत विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने केपीआई (की परफोर्मेंस इंडीकेटर) के अन्तर्गत सही लक्ष्यों को चुने जाने के निर्देश दिए। सीएस ने साफ कहा कि केपीआई के अन्तर्गत लक्ष्य और आउटकम दोनों स्पष्ट होने चाहिए। मुख्य सचिव ने कहा कि जन सेवा से जुड़ी योजनाओं पर विशेष बल दिया जाना चाहिए।

खासतौर पर सड़क, पानी, बिजली, शिक्षा, चिकित्सा और अन्य बुनियादी जन सेवाओं पर फोकस किया जाए। उन्होंने उच्च शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि कैरियर काउंसलिंग पर और अधिक ध्यान दिया जाए। मुख्य सचिव ने लोक निर्माण विभाग द्वारा गुणवत्ता जांच परीक्षणों के लिए बड़े लक्ष्य रखे जाने व गड्ढों व पुलों की मरम्मत के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किए जा रहे कार्यों की गुणवत्ता जांच बहुत ही आवश्यक है। उन्होंने वन विभाग को मानव वन्यजीव संघर्ष के अन्तर्गत दी जाने वाली आर्थिक सहायता के लम्बित प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के भी निर्देश दिए।

उन्होंने समाज कल्याण के अन्तर्गत पेंशन और छात्रवृत्ति को समयबद्ध रूप से वितरित करने के भी निर्देश दिए। खेल विभाग से उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त खिलाड़ियों को नेशनल लेवल पर या प्रतियोगिताओं हेतु बाहर भेजे जाने पर प्रतिभागियों द्वारा मेडल प्राप्त किये जाने का रिकॉर्ड भी इसमें शामिल करने को कहा। सचिव ऊर्जा राधिका झा ने बताया कि ऊर्जा विभाग ही एक ऐसा विभाग है जो सीएम डैशबोर्ड पोर्टल के सभी फंक्शन्स का प्रयोग कर रहा है। इससे विभाग की दक्षता में भी काफी सुधार आया है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.