Monday, Oct 22, 2018

नाजुक हालत में इलाज के लिए तड़पता रहा बच्चा

  • Updated on 10/10/2018

उत्तरकाशी/ब्यूरो। ठांडी गांव प्रसव पीड़िता को मोबाइल 108 वाहन ने आधे रास्ते में यह कह कर उतार दिया कि वाहन में तेल खत्म हो गया है। प्रसव पीड़िता से कहराती महिला गांव के लोगों की मदद से अस्पताल पहुंची और यहां एक नवजात को जन्म दिया।

नवजात के नाजुक स्वास्थ्य के चलते चिकित्सकों ने उसे दून रेफर तो कर दिया है मगर 108 ने तेल की समस्या बता कर दून तक मरीज को पहुंचाने से इंकार कर दिया। बाद में जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान के हस्तक्षेप के बाद जच्चा-बच्चा को दून लाया जा सका।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम बोले, कुछ कांग्रेसियों को भी है छपास रोग

ब्लाक डुंडा की पट्टी गाजणा के ठांडी गांव की चंद्रेश्वरी देवी को गुजरे मंगलवार को 108 ने यह कहकर उतार दिया कि वाहन में तेल नहीं है। इसके बाद प्रसव पीड़ा से तड़पती चंद्रेश्वरी ग्रामीणों की मदद से जिला चिकित्सालय उत्तरकाशी पहुंची। यहां नवजात को जन्म तो दिया मगर डाक्टरों ने उसकी हालत नाजुक बताते हुए तत्काल हॉयर सेंटर रेफर कर दिया। 

मोबाइल 108 के कर्मियों ने तेल न होना बताया और ले जाने से इंकार कर दिया। मामला कांग्रेस के युवा नेता प्रदीप भट्ट ने सोशल मीडिया पर वायरल किया। इसके के बाद डीएम डा. आशीष चौहान ने स्वयं अस्पताल पहुंचकर जच्चा-बच्चा को दून रेफर किया। इस कार्रवाई में 12 घंटे का समय लगा और इन 12 घंटे मां तड़पती रही और बच्चा बीमारी से तपता रहा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.