Wednesday, Jun 26, 2019

कर्नाटक में दिखा चक्रवात 'वायु' का नजारा, अगले 24 घंटे में गुजरात पहुंच जाएगा तूफान

  • Updated on 6/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अरब सागर में पैदा हुए तूफान ने अब चक्रवाती तूफान 'वायु' (Cyclonic Storm Vayu) का रूप ले लिया है। मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान गुजरात की तरफ बढ़ रहा है और इसके 13 जून की सुबह तक गुजरात पहुंचने की संभावना है। हालांकि, यह तूफान कितना खतरनाक हो सकता है, इसका अंदाजा हम कर्नाटक से हुई तबाही से लगा सकते हैं।

मौसम विभाग ने गुजरात के तटीय इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। चक्रवात की वजह से करीब 135 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की संभावना जताई थी। परन्तु कर्नाटक से आइ एक वीडियो ने चक्रवात वायु के संकट को और गहरा दिया है। माना यह भी जा रहा है कि तूफान, मानसून की रफ्तार पर भी अपना प्रभाव डाल सकता है।

जिला प्रशासन ने मंगलुरु में उल्लाल में तट के किनारे बोल्डर स्थापित किए हैं। आपको बता दें कि यह नौबत तब आती है, जब काफी कठिन समुद्री परिस्थितियां उत्पन्न हो जाए।

अगले 24 घंटों में और भी बढ़ सकता है चक्रवात ‘वायु’

मंगलवार को मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण चक्रवात वायु तेज हो गया है। चक्रवात नॉर्थ वेस्ट अमीनदीवी(लक्षद्वीप) से 380 किलोमीटर, साउथ वेस्ट मुंबई (महाराष्ट्र) में 630 किलोमीटर और वेरावल (गुजरात) के साउथ में 780 किलोमीटर दूरी पर है। यह काफी रफ्तार से साथ उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। अगले 24 घंटे और भी खतरनाक हो सकता है।

आईएमडी अहमदाबाद के निदेशक जयंत सरकार ने चक्रवाती तूफान के बारे में कहा कि 'चक्रवाती वायू सौराष्ट्र के तटीय इलाकों के आसपास से भी गुजर सकता है, क्योंकि यह बेहद तीव्र चक्रवाती तूफान है। हमने मछुआरों और सिग्नल नंबर 2(सभी जहाजों से बंदरगाह छोड़ने के लिए कहना) दे दिया है। इस चक्रवात की वजह से गुजरात में मानसून के दस्तक देने में भी कुछ देर हो सकती है।'

Related image

गुजरात सरकार ने जारी किया अलर्ट
गुजरात पर मंडरा रहे वायु नामक चक्रवात के खतरे को देखते हुए समुद्र से सभी मछुआरों को बाहर बुला लिया गया है। एनडीआरएफ (NDRF) व सेना (Army) के जवानों को तटीय इलाकों में तैनात कर दिया है। मुख्‍यमंत्री रुपाणी ने निचले इलाकों से लोगों को हटाने के साथ मंत्रीयों को भी प्रभावित इलाकों में रहने को कहा है। 

मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने मंगलवार को गांधीनगर में मुख्‍य सचिव, पुलिस महानिदेशक, सेना व आपदा प्रबंधन के अधिकारियों के साथ बैठक कर समु्द्र तटीय जिलों भावनगर, अमरेली, गीर सोमनाथ, जूनागढ,पोरबंदर व जामनगर के लिए राहत एवं आपदा प्रबंधन की तैयारियों का जायजा लिया है।

रुपाणी ने आगामी 48 घंटे के दौरान चक्रवात के खतरे को देखते हुए सभी जिला कलेक्टर, कर्मचारी व जवानों के अवकाश रद्द कर दिए हैं। और साथ ही 12 व 13 जून को स्‍कूल, कॉलेज व आंगनवाडी केंद्रों में छुट्टी रखने के आदेश दिए हैं। बताया गया है कि वह जल, थल व वायू सेना के अधिकारियों के साथ भी संपर्क में हैं, और जरूरत हुई तो उनकी भी मदद ली जाएगी।

बता दें कि चक्रवाती तूफान 'वायु' लगातार उत्तर और उत्तर-पश्चिम दिशा में गुजरात की ओर बढ़ रहा है। लक्षद्वीप के दक्षिणपूर्व और पूर्व-मध्य अरब सागर में बने डिप्रेशन की वजह से गुजरात में भारी बारिश की संभावना जताई जा रही है। इसकी वजह से केरल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है, जबकि कर्नाटक के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।

जानकारी के मुताबिक गर्म समुद्री हवाओं की वजह से कम दबाव वाले क्षेत्रों ने सोमवार को डिप्रेशन का रूप ले लिया और मंगलवार सुबह तक चक्रवात में तबदील हो गया है। इस चक्रवात का नाम 'वायु' रखा गया है, जो की भारत द्वारा दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार तक 'वायु' तूफान अपने चरम पर होगा और इसकी रफ्तार 135 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की होगी।

मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक केरल तट, लक्षद्वीप और उससे लगे दक्षिणपूर्व अरब सागर में नहीं जाने की सलाह दी गई है। विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के मुताबिक, 11 जून को लक्षद्वीप और पूर्व-मध्य अरब सागर में ऊंची-ऊंची लहरें उठने की संभावना है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.