Monday, Dec 09, 2019
the deadlock in haryana is over khattar cabinet will be expanded today

हरियाणा: खट्टर मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार- विज, धानक सहित 10 चेहरे को मिला जगह

  • Updated on 11/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आज हरियाणा (Haryana) में बीजेपी (Bjp)-जेजेपी (JJP) गठबंधन सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार हो गया है। अनिल विज और अनूप धानक ने मंत्रीपद की शपथ ली है। गत 17 दिनों से चल रही गतिरोध को विराम देते हुए दोनों दलों के शीर्ष नेता ने कैबिनेट में नए मंत्रियों के शामिल करने पर सहमति जताई है। इस शपथ समारोह में सीएम मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) समेत दोनों दलों के नेता गण शामिल हुए है।

खट्टर मंत्रिमंडल में 10 चेहरे को मिला जगह 

दोनों दलों में आपसी सहमति के बाद 10 मंत्री को जगह दी गई है। जिसमें बीजेपी कोटे से 8, जबकि जेजेपी से 1 और निर्दलीय से 1 को मंत्री बनाये गए है। कुल 10 मंत्रियों में से 6ने कैबिनेट और 4 ने राज्य मंत्री की शपथ ली है। खट्टर मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले नेता है- अनिल विज, कंवर पाल, मूल चंद शर्मा, रंजीत सिंह, जय प्रकाश दलाल और डॉ बनवारी लाल जिन्होंने कैबिनेट मंत्री के रुप में शपथ ली है। जबकि राज्य मंत्री व स्वतंत्र प्रभार के लिए ओम प्रकाश यादव, कमलेश धांडा, अनूप धानक और संदिप सिंह को शामिल किया गया है। 

बीजेपी-JJP गठबंधन से भड़की कांग्रेस, बताया- ‘छल-कपट’ की सरकार

राज्य में किसी भी दलो को नहीं मिला बहुमत
मालूम हो कि 21 अक्टूबर को राज्य में विधानसभा चुनाव हुए थे। जिसके बाद 24 अक्टूबर को चुनाव परिणाम में बीजेपी 40 सीटें लेकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। वहीं कांग्रेस को 30 सीटों पर संतोष करना पड़ा। तो दूसरी तरफ जेजेपी को 10 सीटें मिलने से सत्ता की चाबी उसके पास पहुंच गई। राज्य विधानसभा में कुल 90 सीटें है। लेकिन किसी भी दलों को बहुमत नहीं मिलने से बीजेपी और जेजेपी दोनों दलों ने मिलकर सरकार बनाने पर फैसला किया था। लेकिन इतने दिनों तक कुछ विभाग को लेकर मतभेद होने से मंत्रिमंडल का गठन नहीं हो पा रहा था।  

पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने के चलते फिर से बढ़ा दिल्ली का प्रदूषण, CM ने किया ट्वीट

 बीजेपी सहयोगी पार्टी के दवाब में झुकी

आज मंत्रीमंडल के पहले गठन से पहले डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने सीएम मनोहर लाल खट्टर से अहम मुलाकात की। जिसमें दोनों दलों के बीच विभागों के बंटवारों पर चर्चा हुई। दुष्यंत चौटाला को 11 मंत्रालय मिले।

जिसमें राजस्‍व एवं आपात प्रबंधन विभाग, एक्साइज एंड टैक्सेसन, ग्रामीण विकास एवं पंचायत, उद्योग एवं वाणिज्‍य, जनस्‍वास्‍थ्‍य अभियांत्रिकी, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्‍ता मामले, श्रम एवं रोजगार, सिविल एविएशन, आर्कियोलॉजी एंड म्यूजियम, पुनर्वास और कॉन्सोलिडेशन महत्वपूर्ण है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.