Wednesday, Feb 19, 2020
the-first-list-of-selected-children-released-by-the-schools

स्कूलों ने जारी की चयनित बच्चों की पहली सूची, नाम नहीं आने वाले अभिभावकों को दूसरी सूची का इंतजार

  • Updated on 2/5/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राजधानी में नर्सरी में अपने बच्चे का दाखिला पसंद के अच्छे स्कूल में कराना अभिभावकों के लिए किसी जंग से कम नहीं है। सोमवार को स्कूलों द्वारा नर्सरी में चयनित बच्चों की सूची आने के बाद अभिभावकों के चेहरे पर इसका असर साफ दिख रहा था।

सूची में बच्चे का नाम आने पर अभिभावकों की आंखों की चमक और चेहरे का सुकुन देख लग रहा था कि जैसे उन्होंने दाखिले की जंग जीत ली है। वहीं जिन अभिभावकों के बच्चों का नाम पहली सूची में नहीं आया उनके चेहरों पर मायूसी साफ दिखाई दे रही थी।

ब्वॉयफ्रेंड के साथ मिलकर कैब चालक की हत्या, शव के टुकड़े-टुकड़े कर नाले में फेंका

बहुत से ऐसे अभिभावक थे, जिन्होंने दर्जनों स्कूलों में पंजीकरण कराया था, मगर उनके बच्चे का नाम सूची में नहीं आया। ऐसे में मायूस होकर अभिभावक अभी से दूसरी सूची का इंतजार करने में लग गए है। 

सोमवार को सुबह से ही नर्सरी में अपने बच्चे के दाखिले के लिए आवेदन करने वाले अभिभावकों में बैचेनी बनी हुई थी। सुबह से ही अभिभावक ऑनलाइन स्कूली की वेबसाइट पर अपने बच्चे का नाम देखने में लग गए थे। बड़ी संख्या में स्कूलों ने चयनित बच्चों की सूची ऑनलाइन के साथ-साथ स्कूल में भी लगाई थी।

ऐसे में स्कूलों में भी अपने बच्चे का नाम सूची में देखने के लिए अभिभावकों की भारी भीड़ देखी गई। दरियागंज स्थित हैप्पी स्कूल में दोपहर तीन बजे बड़ी संख्या में अभिभावक अपने बच्चे का नाम खोजने स्कूल पहुंचे। स्कूल में जिनके बच्चे का नाम आ गया था, वह फोन करके सभी को इसके बारे में बता रहे थे।

लोग एक-दूसरे को दाखिले के लिए बधाइयां दे रहे थे। वहीं चयनित न होने वाले बच्चों के अभिभावक निराश थे। यहां पहुंचे अभिभावक शहनवाज ने बताया कि मेरे भतीजे का नाम नहीं आया, यहां सूची देखकर निराशा हुई है। 

गुरुद्वारा कमेटी मामला: हरविंदर सरना का दावा, तख्त पर कब्जा करना चाहते हैं अकाली

‘32 स्कूलों में किया था आवेदन, एक में आया नाम’
अभिभावक गौरव अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने अपने बच्चे के दाखिले के लिए दक्षिणी दिल्ली के 32 नामी स्कूलों में पंजीकरण कराया था। इसमें बिड़ला, एपीजे, एमिटी,  लक्ष्मण पब्लिक और मानव भारती मुख्य है। 32 स्कूलों में आवेदन बाद एक स्कूल मे नाम आया है।

मगर वह अभी दूसरी सूची का इंतजार करेंगे और यदि उन्हें दूसरी सूची में भी उनकी पहली पसंद के स्कूलों में नाम नहीं आया तो चयनित स्कूल में ही दाखिला ले लेंगे। फिलहाल दो स्कूलों में वेटिंग लिस्ट में नाम आ गया है।

केजरीवाल ने अलका लांबा को Twitter पर किया अनफॉलो, छोड़ेंगी पार्टी !

मौखिक घोषणा में नाम, ऑनलाइन सूची में गायब 
अभिभावक अमित कुमार का कहना है कि द्वारका के एक स्कूल में  ड्रॉ ऑफ लॉटस में चयनित बच्चों की स्कूल में मौखिक घोषणा की गई तो उनके बच्चे का नाम चयनित बच्चों में बोला गया।

मगर, अब जब स्कूल ने चयनित बच्चों की सूची ऑनलाइन डाली है तो उसमें उनके  बच्चे का नाम नहीं है। अमित का कहना है कि मुझे समझ नहीं आ रहा कि यह कैसे हो गया। अभी दूसरे स्कूलों में भी विकल्प तलाश रहा हूं।

‘7 स्कूलों के काराया पंजीकरण, नाम नहीं आया’
विकास कुमार का कहना है कि दक्षिणी दिल्ली के 7 स्कूलों में पंजीकरण कराया था, लेकिन आज देखा तो एक में भी नाम नहीं आया। अब समझ में नहीं आ रहा कि अगर किसी में भी नहीं हुआ तो क्या होगा। अब घर में सभी हताश हो गए हैं। अब दूसरी सूची का इंतजार करने के अलावा कोई चारा नहीं है। वेटिंग में भी बच्चे का नाम नहीं आया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.