Wednesday, Jan 19, 2022
-->
the-pace-of-vaccination-slowed-down-after-october-vaccination-is-also-decreasing-in-november

वैक्सीनेशन की रफ्तार पड़ी धीमी, अक्तूबर के बाद नवम्बर में भी कम हो रहा टीकाकरण 

  • Updated on 11/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। जिले में वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी हो गई है। जनवरी से चले टीकाकरण की गति अक्तूबर माह में धीमी रही। अब यही गति नवम्बर माह में भी जारी है। यह स्थिति तब है जब एक नवम्बर से क्लस्टर मॉडल-2.0 भी शुरू हो गया है। जहां दिन ही नहीं रात में भी टीकाकरण हो रहा है। इसके बावजूद एक नवम्बर को 14402 लोगों को टीका लगा और 2 को 8567 को टीका लगा। बुधवार को भी करीब 6 हजार लोगों को ही टीका लगा। 

वहीं, कम टीकाकरण को लेकर अधिकारी कोविड संक्रमण का कम होने पर टीकाकरण को जरूरी न समझना, त्योहारी सीजन के अलावा अन्य कारण मानते है। कोविड संक्रमण से बचाव को लेकर टीकाकरण की शुरूआत जनवरी 2021 से शुरू हो गई थी। शुरूआत में हेल्थ वर्कर्स एवं फ्रंट लाइन वर्कर्स को शामिल किया गया। इसके बाद 60 वर्ष से अधिक आयु वालों को टीका लगाना शुरू हुआ। इसके बाद 18 वर्ष से अधिक सभी को टीका लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गई।

जनवरी में 11827 लोगों का टीकाकरण किया गया था। इसके बाद हर माह टीकाकरण में तेजी देखी गई। अगस्त माह में मेगा वैक्सीनेशन शुरू होने के बाद 5 लाख से अधिक लोगों को टीका लगाया गया। सितम्बर माह में 771726 लाख लोगों को टीका लगा। लेकिन अक्तूबर माह में लोग कम संख्या में टीका लगवाने केंद्र तक पहुंचे और करीब 518545 लाख लोगों को ही टीका लगाया जा सका। 

अभी भी 4 लाख को पहली डोज लगना शेष 
जिले में शासन स्तर से 2702167 लोगों को डोज लगाने का लक्ष्य निर्धारित है। अब तक 3345737 लोगों का टीका लग चुका है। इसमें 2258136 को पहली डोज, 1087601 को दोनों डोज लग चुकी है। ऐसे में अभी भी करीब 4 लाख लोगों को पहली डोज लगना शेष है। इसके बाद भी टीकाकरण में कमी आ रही है।

बुखार न हो इससे भी बच रहे लोग 
कोविड संक्रमण का प्रकोप कम होने के बाद डेंगू व वायरल चरम पर है। लोगों की मानें तो टीकाकरण की बाद हल्का बुखार व थकावट होती है। अब वायरल का प्रकोप बढऩे पर बुखार से बचने के लिए भी लोग कम संख्या में टीका लगवाने पहुंच रहे है। जिससे त्योहार के दौरान उन्हें किसी शारीरिक समस्या से न जूझना पड़े। 

नहीं है वैक्सीन की कमी 
वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी डॉ. जेपी मथुरिया का कहना है कि वैक्सीन की कमी नहीं है। सेंटर पर आने वाले सभी लोगों को टीका लगाने का प्रयास है। दिन से अलावा रात्रि में भी टीकाकरण हो रहा है। पूरा प्रयास है कि एक माह में सभी को पहली डोज लगा दी जाएगी। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.