Monday, Oct 25, 2021
-->
The patient died during the investigation itself, the relatives created a ruckus

जांच के दौरान ही मरीज ने दम तोड़ा, परिजनों ने किया हंगामा

  • Updated on 9/18/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जिला एमएमजी अस्पताल की इमरजेंसी में शनिवार को गंभीर हालत में लाए गए एक मरीज की जांच के दौरान ही मौत हो गई। मरीज की मौत के बाद परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगा हंगामा शुरू कर दिया, लेकिन वहां मौजूद पुलिसकर्मियों और स्टाफ ने लोगों को किसी तरह समझा बुझाकर शांत कराया। जिसके बाद परिजन मरीज के शव को ले गए। 

विजयनगर निवासी राजेश (52) को गंभीर हालत में परिजन शनिवार सुबह लगभग 11 बजे जिला एमएमजी अस्पताल लेकर पहुंचे थे। बताया कि राजेश को तेज बुखार और डायरिया की शिकायत थी। इमरजेंसी के गेट पर पहुंचते ही राजेश के मुंह से खून आने लगा। इस पर परिजनों ने वहां मौजूद डॉक्टर और स्टाफ  से मरीज को देखने की गुहार लगाई। जिसके बाद डॉक्टर जांच प्रक्रिया में जुटे थे कि मरीज ने दम तोड़ दिया। मरीज की मौत के बाद परिजनों ने स्टाफ  पर इलाज में देरी का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया।

परिजनों ने आरोप लगाया कि यदि मरीज को आते ही इमरजेंसी में देख लिया जाता तब मरीज की जान बच सकती थी। हालंाकि वहां पहले से मौजूद पुलिस और स्टाफ ने गुस्सा ने किसी तरह परिजनों को समझाया। जिसके बाद परिजन शांत हुए। इसके बाद जरूरी कागजी प्रक्रिया करते हुए शव परिजनों को सौंप दिया गया।

वहीं, इस मामले में अस्पताल के सीएमएस का कहना है कि मरीज का पहले से कहीं उपचार चल रहा था, हालत बिगडऩे पर उसे इमरजेंसी में लाया गया था, लेकिन तब तक मरीज की हालत बहुत ज्यादा खराब हो चुकी थी। जांच के दौरान ही मरीज ने दम तोड़ दिया। शव परिजनों को सौंप दिया गया है।
 

comments

.
.
.
.
.