Friday, Jan 18, 2019

ठंड ने हटाए राजधानी से प्रदूषण के जहरीले बादल, सांस लेने लायक हुई हवा!

  • Updated on 1/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सर्दीभरे मौसम में हवा चलने की वजह से जहरीली हवा का असर कम हुआ है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की रिपोर्ट के मुताबिक वीरवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) स्तर 292 रहा, जो कि ‘खराब’ श्रेणी में आता है। वहीं आज का एक्यूआई भी लगातार खराब श्रेणी में बना हुआ है।

कमोबेश दिल्ली के आस-पास के क्षेत्रों में भी हवा की गुणवत्ता ‘खराब’ श्रेणी की रही। पड़ोसी शहर गाजियाबाद का स्तर 298, फरीदाबाद का स्तर 236, नोएडा का स्तर 290, ग्रेटर नोएडा का स्तर 291 व गुरुग्राम का स्तर 196 रहा। सुबह के वक्त दिल्ली में कई जगहों पर कोहरे का असर भी रहा, जिसकी वजह से यातायात व्यवस्था प्रभावित हुई।

नर्सरी एडमिशन: दाखिले को लेकर निजी स्कूल कर रहे मनमानी, सबकी अपनी-अपनी है शर्तें

वीरवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस रहा, जो कि सामन्य से 1 डिग्री कम है। सुबह आद्र्रता 97 फीसदी दर्ज की गई। शुक्रवार को सुबह हल्के कोहरे के साथ अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार इस सप्ताह के आखिर में हल्की बारिश होने की संभावना है।

राजधानी में फिर गिरी सीलिंग की गाज, पूर्वी दिल्ली में 16 फैक्ट्रियां हुई सील

13 जनवरी के बाद दिन-रात के पारे में 2 से 4 डिग्री तक कमी आ सकती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली की 10 सबसे प्रदूषित जगह आनंद विहार, अशोक विहार, द्वारका, आईटीओ, लोदी रोड, पटपडग़ंज, रोहिणई, आरकेपुरम, सीरीफोर्ट व बवाना में हुए सर्वे में 71 फीसदी लोगों ने बताया कि हवा सांस लेने योग्य नहीं है। 

किराया लेने में बसों की मशीनें फेल, सरकार ने 3 महीने में सभी ETM को बदलने का दिया निर्देश 

16 फीसदी लोग मानसिक दबाव और 9 फीसदी लोगों ने बाहर जाना कम कर दिया है। प्रदूषण की वजहों में 40 फीसदी लोग पावर प्लांट, 32 फीसदी लोग कंस्ट्रक्शन, 29 फीसदी एसी और गाडिय़ों को इसकी वजह मानते हैं। 37 फीसदी लोग मास्क पहनकर बाहर निकल रहे हैं, जबकि 10 फीसदी घरों में एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.