Tuesday, Aug 03, 2021
-->
The pressure on the Congress high command regarding Chavan committee albsnt

चव्हाण कमिटी को लेकर कांग्रेस आलाकमान पर बढ़ा दवाब, जिम्मेदार नेताओं की होगी छुट्टी !

  • Updated on 6/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस हाशिये पर खड़े होने के लिये मजबूर है। हाल ही के पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार हुई है। जिससे केंद्रीय नेतृत्व के क्षमता पर सवाल उठने शुरु हो गए है। हालांकि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने पांच राज्यों में हार के लिये अशोक चव्हाण के नेतृत्व में एक कमिटी गठित की थी। जो अपनी रिपोर्ट सौप चुकी है।

टीके की आपूर्ति को लेकर अमेरिकी कंपनियों के सम्पर्क में हैं भारत, विदेश मंत्रालय ने दी जानकारी

बता दें कि देश भर के खासकरके इन पांच राज्यों के पार्टी के कार्यकर्ताओं को उम्मीद है कि चव्हान कमिटी के आधार पर सोनिया गांधी एक्शन लेगी। ताकि पार्टी को आने वाले दिनों में मजबूत किया जा सकें। दरअसल कमिटी ने अपने 80 पेज के रिपोर्ट में विस्तार से हार के कारणों को जानने की कोशिश की है। जिसमे प्रदेश प्रभारी से लेकर प्रदेश अध्यक्ष के भूमिका और लापरवाही पर प्रकाश डाला है। साथ ही राज्य में गठबंधन को लेकर भी टिप्पणी की गई है।यहीं नहीं टिकट बंटवारें में भाई-भतीजावाद को भी तरजीह पर सवाल उठाया गया है।

चुनावी तैयारी! योगी की बढ़ी टेंशन, BJP कोर कमिटी जल्द करेगी अहम फैसला

मालूम हो कि रिपोर्ट सौपें जाने के बाद भी कांग्रेस के एक धड़ा को लगता है कि शायद ही कोई कार्रवाई हो। जैसा कि 2014 के एंटेनी रिपोर्ट के साथ हुआ था। जब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ए के एंटनी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के लिये बिंदुवार चर्चा को रखा गया था। लेकिन आज तक उस पर कोई कदम नहीं उठाया जा सका। वहीं सोनिया समर्थकों का मानना है कि अगले साल भी विधानसभा चुनाव होने है। पार्टी इस रिपोर्ट को गंभीरता से लेगी। जिससे भविष्य में इससे सबक सीखा जा सकें।

 

comments

.
.
.
.
.